Advertisement

Period-delaying-pills के बारे में 10 अहम बातें जो आपको पता होनी चाहिए

norethisterone tablet hindi: पीरियड डिलेइंग पिल से जुड़े कुछ ऐसे सवालों के जवाब जिसके बारे में हर महिला को पता होना चाहिए

Norethindrone Dosage Guide: हमारे देश में कई जगहों पर पीरियड के दौरान महिलाओं को धार्मिक कार्यों में हिस्सा नहीं लेने दिया जाता और ऐसे अवसर या कहीं घूमने जाने से पहले अगर किसी लड़की के पीरियड शुरु हो जाएं तो सोचिए उसका मूड कितना ज्यादा ख़राब हो जाएगा।  ऐसी स्थिति में पीरियड डिलेइंग पिल, शायद कुछ महिलाएं आपको इसकी सलाह दें। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि क्या ये दवाएं सचमुच कारगर साबित होती हैं? बाज़ार में इतनी सारी टैबलेट्स उपलब्ध हैं उनमें से क्या चुने? क्या दवा खाना सेफ है? ये तमाम सवाल घूमते हैं ना आपके भी दिमाग में? क्या आप जानते हैं पीरियड्स समय से पहले शुरू करने में मददगार इन घरेलु नुस्खों के बारे में?

तो अगर आप ऐसी कोई टैबलेट लेने की सोच रही हैं तो कुछ बातों पर गौर कीजिए। ऐसे मामलों की एक्सपर्ट और मैक्स हॉस्पिटल, नई दिल्ली में कंसल्टेंट गाइनकालजिस्ट और यूनिट हेड डॉ. उमा वैद्यनाथन बता रही हैं पीरियड डिलेइंग पिल्स के बारे में।

1. पीरियड डिलेइंग पिल्स क्या हैं?

Also Read

More News

ये ऐसी दवाइयां हैं जिनमें हार्मोन प्रोजेस्ट्रॉन होते हैं। पीरियड की शुरुआत से 3-4 दिन पहले इन्हें खाने से पीरियड्स देरी से आते हैं।

2. पीरियड डिलेइंग पिल्स कितने प्रकार की होती हैं?

बाज़ार में विभिन्न प्रकार की पीरियड डिलेइंग पिल्स उपलब्ध हैं। हालांकि ऐसी टैबलेट्स जिनमें हार्मोन प्रोजेस्ट्रॉन होते हैं वे आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह नहीं होतीं। इसके अलावा कम्बाइन्ड कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स (जिनकी सलाह साधारण ओडीपी में नहीं दी जाती) और norethisterone (एक प्रकार की प्रोजेस्ट्रॉन टैबलेट) भी बाज़ार में उपलब्ध होती हैं। इसके साथ ही ऑनलाइन आपको फेसिक (phasic) पिल्स मिल जाती हैं लेकिन अब इनका इस्तेमाल नहीं किया जाता।

3. ये दवाएं कैसे असर करती हैं?

पीरियड के समय पहले 15 दिनों में हार्मोन्स एस्ट्रोजेन का निर्माण होता है जो यूटरीन लाइनिंग को बढ़ने नहीं देते। जबकि हार्मोन प्रोजेस्ट्रॉन आखिरी 15 दिनों में बनते हैं जो यूटरीन लाइनिंग को बढ़ाने का काम करती है। जब हार्मोन्स एस्ट्रोजेन अधिक होते हैं तो यूटरीन लाइनिंग घटने लगती है और पीरियड्स शुरु हो जाते हैं। लेकिन जब आप दवाइयां खाती हैं तो हार्मोन प्रोजेस्ट्रॉन का स्तर बढ़ जाता है जो यूटरस को रक्त का बहाव करने से रोकता है और इस तरह आपके पीरियड्स रूक जाते हैं।

4. ये दवाएं कौन और कब खा सकता है?

अगर आप चाहती हैं कि आपके पीरियड्स कुछ दिन बाद आएं तो आपको उनकी संभावित तारीख से 3-4 दिन पहले ही दवाइयां खाना शुरु कर देना चाहिए और तब तक खाते रहें जब तक कि आप पीरियड आगे बढ़ाना चाहती हैं। हालांकि इन पिल्स को खाने से पहले गाइनकालजिस्ट से सलाह–मशविरा कर लें। आपके वज़न, पीरियड् के समय और आपकी सेहत को ध्यान मे रखते हुए वो आपको सही दवा की सलाह देंगे।

5. क्या पिल्स खाना बंद करते ही पीरियड्स शुरु हो जाएंगे?

जब आप दवा खाना बंद कर देती हैं तो हार्मोन्स को अचानक से अपनी क्रिया बदलनी पड़ती है। जिसकी वजह से आपके शरीर से रक्त का प्रवाह होने लगता है। हालांकि हर महिला का शरीर अलग है। इसलिए कुछ लोगों को दवा बंद करने के कुछ घंटों के भीतर ही पीरियड्स शुरु हो जाते हैं। जबकि कुछ लोगों को 10-15 दिनों बाद पीरियड्स शुरु होते हैं। लेकिन अगर 15 दिन के भीतर भी आपके पीरियड्स शुरु नहीं होते तो डॉक्टर से तुरंत सम्पर्क करें।

6. क्या ये दवाएं सुरक्षित हैं? इनका प्रयोग कब तक किया जा सकता है?

डॉ. उमा के अनुसार एकाध बार इस दवा का इस्तेमाल खतरनाक नहीं लेकिन इसकी आदत बना लेना सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक है। यह पूरे शरीर के नैचुरल हार्मोन्स साइकल को प्रभावित करता है। इसलिए ज़रूरी हो तो इन दवाओं का सेवन करें और जितना जल्दी हो प्राकृतिक तरीके से पीरियड्स को आने दें। इस तरफ भी ध्यान रहे कि देर से आनेवाले पीरियड्स की वजह से दर्द भी अधिक होगा।

7. क्या पीरियड डिलेइंग पिल्स और बर्थ कंट्रोलिंग पिल्स समान हैं?

बहुत से लोगों का मानना है कि पीरियड डिलेइंग पिल्स और बर्थ कंट्रोलिंग पिल्स एक ही हैं। लेकिन यह बात सच नहीं। बर्थ कंट्रोल पिल्स ओव्यलैशन नहीं होने देते और अनचाहे गर्भ को रोकते हैं। इसके उलट पीरियड डिलेइंग पिल्स यूटरीन लाइनिंग पर काम करती हैं और ओव्यलैशन को किसी भी तरह से प्रभावित नहीं करते। इसलिए यह अनचाहे गर्भ से बचने में बिल्कुल मदद नहीं करतीं।

8. क्या इन दवाओं का कोई साइड-इफेक्ट है?

पीरियड डिलेइंग पिल्स में प्रोजेस्टरोन होता है। इन दवाओं का साइड इफेक्ट भी वही हैं जो प्रोजेस्टरोन के अधिक स्तर की वजह से होता है। इसकी वजह से हार्मोन्स का असंतुलित हो जातै हैं और भारीपन, पिम्पल और मूड स्विंग जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

9. क्या ये दवाएं हमेशा काम करती हैं?

ज्यादातर महिलाओं का यही कहना है कि इन दवाओं से उनके पीरियड टल गए और उन्हें कोई तकलीफ भी नहीं हुई। अभी तक तो कोई इन दवाओं के काम न करने के मामले तो सामने नहीं आए। लेकिन इन दवाओं को खाने से पहले अपने डॉक्टर से इसके परिणामों के बारे में ज़रूर बात कर लें।

10. गाइनकालजिस्ट से कब सम्पर्क करना चाहिए?

अपने पीरियड्स से 7-10दिन पहले बात करना बेहतर होगा। इन दवाओं को बिना डॉक्टरी सलाह के खुद न खरीदें क्योंकि शरीर पर इनके अपने साइड इफेक्ट हैं। ध्यान रहे कि पीरियड डिलेइंग पिल्स बर्थ कंट्रोलिंग पिल्स नहीं हैं। इसीलिए साथ ही अगर 10-15 दिन के भीतर पीरियड्स नहीं आते तो अपने गाइनकालजिस्ट से बात करें।

Read this in English.

अनुवादक -Sadhna Tiwari

चित्र स्रोत- Shutterstock

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on