Sign In
  • हिंदी

दि‍वाली के प्रदूषण से बचाएंगे आयुर्वेद के ये नुस्‍खे

दि‍वाली के दौरान वायु प्रदूषण से कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जैसे कि खांसी, सांस की तकलीफ, त्वचा रोग आदि © Shutterstock

दि‍वाली के दौरान वायु प्रदूषण से कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जैसे कि खांसी, सांस की तकलीफ, त्वचा रोग आदि

Written by Editorial Team |Updated : November 3, 2018 8:30 PM IST

क्या आप जानते हैं कि पिछले साल वायु की गुणवत्ता दि‍वाली के दौरान “गंभीर” श्रेणी में आ गयी थी। सर्दियों की शुरुआत और पटाखो से देश को विशेष रूप से राजधानी और उसके आस-पास के इलाकों में प्रदूषण की चिंता का सामना करना पड़ता है। दि‍वाली के दौरान वायु प्रदूषण से कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जैसे कि खांसी, सांस की तकलीफ, त्वचा रोग आदि। तो इस दिवाली, अपने जीवन को आयुर्वेद की ओर आगे बढ़ाए और स्वाभाविक रूप से जीने के लिए अपने चारों ओर की हवा को शुद्ध करने के लिए नीचे दिए गए कुछ सरल उपायों का पालन करें, यह स्वस्थ रहने के लिए सबसे अच्छा व आसन रास्ता है। यह भी पढ़ेें - प्रदूषण ने बढ़ा दी है सेहत की परेशानी, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्‍खे

दि‍वाली के दौरान वायु प्रदूषण से बचने के आयुर्वेदिक उपाय

प्रदूषण से बचने के लिए नीम का उपयोग - यह हर्बल पौधा प्रदूषक को अब्सोर्ब करता है। हवा शुद्ध करने के लिए अपने घर में नीम के पत्तों का एक गुच्छा रखें। नीम के पानी में उबली हुई पत्तियों के साथ अपने चेहरे को धो लें। सप्ताह में कम से कम दो बार तीन से चार नीम के पत्ते खाने की कोशिश करें। यह खाने में कड़वा लगता है, लेकिन यह आपके रक्त को शुद्ध करने और रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करेगा। ये पटाखा फैलाता है सबसे ज्यादा प्रदूषण, न करें इस्तेमाल

Also Read

More News

वायु प्रदूषण से बचने के लिए तुलसी - यह हर भारतीय घर में पाया जाने बाला एक आम पौधा है। हालांकि, अगर आपने अभी तक इसे नहीं लगाया है, तो आपको इसे अपने परिवार के लिए जरूर लगाना चाहिए। तुलसी के कुछ पत्ते ले, इसे कुचल दें और शहद के कुछ बूंदों को इसमें डालकर पी लें। यह आपके प्रदूषण के कारण श्वसन पथ  में होने वाली खराबी को रोकने के लिए दैनिक उपचार है। यह भी पढ़ें – डायबिटीज से हैं पीड़ित और सेलिब्रेट करनी है दिवाली, तो अपनाएं ये टिप्‍स

हवा के प्रदूषण से बचने के लिए घी - आपने सोचा होगा कि घी केवल स्वादिष्ट खाना बनाने में मदद करता है। तो आपको फिर से सोचने की जरुरत है! प्रतिदिन सुबह और शाम नाक में गाय के घी की 2 बूँदें आपको प्रदूषकों से दूर रहने में मदद करेगी।

वायु प्रदूषण से बचने के लिए हल्दी - हल्दी, एक आसानी से उपलब्ध होने वाला घटक है जो हर घर में मिलता है शहद के 1 चम्मच के साथ हल्दी पाउडर का आधा चम्मच हर सुबह खाली पेट लेंने से आप दीवाली के दौरान वायु प्रदूषण से बच सकते है।

हवा के प्रदूषण से बचने के लिए पीपली - इसे ‘लांग काली मिर्च’ के रूप में भी जाना जाता है, पीपली फेफड़े के संक्रमण के खिलाफ प्रभावी एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है दैनिक आहार में पीपली को लेने का एक आसान तरीका यह है कि उसे काली मिर्च के स्थान पर उपयोग करना चाहिए और इसे किसी भी दिलकश पकवान में जोड़ें। गंभीर ठंड से बचने के लिए 1¼ चम्मच अदरक, ¼ चम्मच हल्दी और 1 / 8 चम्मच पीपली पाउडर 1 चम्‍मच शहद में मिश्रित करे और जागने के तुरंत बाद गर्म पानी के साथ सेवन करें।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on