Advertisement

अत्यधिक चिंता करने वाले व्यक्तियों में दिखते हैं 4 संकेत, इन्हें समझकर तुरंत लें एक्सपर्ट की सलाह

एंग्जायटी (चिंता) की समस्या किसी को भी हो सकती है, यह मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी एक गंभीर समस्या है। जिसके बारे में यहां हम आपको विस्तार से जानकारी दे रहे हैं।

एंग्जायटी (चिंता) एक बेहद गंभीर मानसिक रोग है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें किसी व्यक्ति को बैचेनी, दिल की धड़कन तेज होना, नाकारात्मक विचार, चिंता और डर लक्षणों का आभास हो सकता है। अगर आप भी इस तरह की समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो यह एंग्जायटी का संकेत हो सकते हैं। हालांकि, एंग्जायटी के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। अब सवाल यह उठता है कि आप अगर आप एंग्जायटी से ग्रसित हैं तो इसका पता कैसे लगाया जा सकता है? इस लेख में हम आपको एंग्जायटी के ऐसे 4 संकेतों के बारे में बता रहे हैं जो आपको यह जानने में मदद करेंगे कि आपको एंग्जायटी है या नहीं।

एंग्जायटी के 4 संकेत और लक्षण - 4 Early Signs of Anxiety

1. भूख कम लगना

ऐसे कई कारण हैं जिनके चलते आपको भूख में कमी का अनुभव हो सकता है। लेकिन ऐसा एंग्जायटी के कारण भी हो सकता है। चिंतित होने पर आपको अक्सर ही भूख में कमी का अनुभव हो सकता है। भले ही आपका पसंदीद भोजन ही आपके सामने क्यों न हो, आपको उसे खाने की कम इच्छा हो सकती है। इसलिए, अगर आपको भूख में अस्पष्ट कमी का अनुभव होता है, तो ऐसा एंग्जायटी के कारण हो सकता है।

2. बहुत ज्यादा चिंता करना

बहुत ज्यादा चिंता करना एंग्जायटी के सबसे लक्षणों में से एक है। एंग्जायटी वाले लोग दैनिक घटनाओं या रोजमर्रा की स्थितियों को लेकर असमान रूप से चिंता कर सकते हैं। यह एंग्जायटी का शुरुआती संकेत भी हो सकता है। अगर आपका अधिक चिंता करना आपके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप कर रहा है तो यह एंग्जायटी के कारण हो सकता है।

Also Read

More News

3. चीजों में रूचि खत्म होना

अक्सर आप देखते हैं जिन चीजों को करने से आपको कभी खुशी मिलती थी, अब आपको तनावग्रस्त महसूस कराती हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आपको बता दें कि यह एंग्जायटी का संकेत हो सकता है। आप जो सोचते हैं वह सामान्य है लेकिन इस बोरियत का परिणाम वास्तव में बहुत अधिक गंभीर हो सकता है। इसलिए, अगर आप भी अचानक दिनभर के सामान्य कार्यों में कम रूचि का अनुभव करते हैं, तो यह एंग्जायटी का संकेत हो सकते हैं।

4. बहुत अधिक सोचना

किसी घटना या स्थिति को लेकर लगातार सोचना या बहुत अधिक सोचना एंग्जायटी से संबंधित है। दिन-ब-दिन आपके ज्यादा सोचने की स्थिति बढ़ती जा रही है तो इसकी बहुत संभावना है कि आप एंग्जायटी से पीड़ित हो सकते हैं। कई बार हम किसी मीटिंग, अपने कॉलेज असाइनमेंट, या काम पर देर से पहुचने को लेकर चिंतित महसूस करना शुरू कर देते हैं, क्योंकि हम इस सब के बारे में पहले से ही सोचना शुरू कर देते हैं। जरूरत से ज्यादा सोचना आपको तनाव दे सकता है साथ ही आपकी नींद में खलल पैदा कर सकता है।

यह भी ध्यान रखें

अगर आप खुद इस तरह के लक्षणों या अन्य लक्षणों का अनुभव करते हैं तो ऐसे में जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से परामर्श करें, और उचित उपचार लें।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on