Advertisement

ओमिक्रोन से जुड़ी अफवाहों और डर को दूर करेंगी डॉक्टर की बताई ये 5 बातें, जानिए इस वायरस से खुद को सुरक्षित कैसे रखें?

डॉक्टर अमित कहते हैं कि, इस समय स्वास्थ्य क्षेत्र पर बहुत बड़ा बोझ है, इसलिए आपकी एकता इस कठिन समय में कोरोना को हराने में हमारी मदद कर सकती हैं, और कोविड-19 के पूर्व काल की सामान्य स्थिति में वापस लौटने की आशा जीवित रहेगी।

नया साल 2022 अपने साथ कुछ ऐसा लेकर आया है जो किसी ने भी नहीं चाहा होगा। कोविड (Covid-19) मामलों के बढ़ते संक्रमन को देखते हुए हम नए साल का स्वागत थर्ड वेव्ह के संकट के साथ कर रहे हैं, ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि कोरोना के बदलते रूप में सामने आए SARS-CoV-2 के नए उभरे हुए संस्करण, Omicron तेजी से फैलने के कारण एक सेलिब्रिटी के रूप में सामने आया है। जो मीडिया की सुर्खियां बना हुआ है, और सोशल साइटों पर भी ट्रेंड कर रहा है। इस नए वेरिएंट को लेकर उत्सुकता ने समाज में कई तरह की अफवाहें और आशंकाएं पैदा की हैं। यह लेख इस बहुचर्चित कोरोना वेरिएंट ओमिक्रोन पर प्रकाश डालता है, और हम उम्मीद करते हैं कि, इससे जिज्ञासा को शांत करने और डर को कम करने में मदद मिलेगी।

ओमिक्रोन से जुड़ी 5 महत्वपूर्ण बातें - 5 Facts Of Omicron In Hindi

1. कोरोना का बदलता स्वरुप चिंता का विषय

ओमिक्रोन वेरिएंट (Omicron Variant) पहली बार दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था और 24 नवंबर 2021 को डब्ल्यूएचओ को इसकी सूचना दी गई थी। बाद में इसे 26 नवंबर को ओमाइक्रोन नाम दिया गया और अंत में इसे वैरिएंट ऑफ कंसर्न के रूप में वर्गीकृत किया गया। इसके कुछ लक्षणों के आधार पर इसे SARS-CoV-2 में वर्गीकृत किया गया है। ये वेरिएंट अपने कुछ बदलते स्वरूप और मानदंड के कारण चिंता का विषय है, जैसे- कोरोना महामारी के ट्रांसमिशन क्षमता में वृद्धि और हानिकारक परिवर्तन में वृद्धि शामिल है। इस बदलाव के अनुसार वर्तमान में अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा और ओमिक्रोन आदि वेरिएंट चिंता का कारण हैं।वास्तव में, इन सभी प्रकारों में बहुत अनिश्चितता है, और इसके संचरण क्षमता, गंभीरता और पुन: संक्रमण के जोखिम को बेहतर ढंग से समझने के लिए अध्ययन चल रहे हैं।

2. ओमिक्रोन वेरिएंट पहली बार कैसे अस्तित्व में आया?

कोरोना वायरस केवल डार्विन के विकासवादी सिद्धांत- सर्वाइवल ऑफ द फिटेस्ट का अनुसरण कर रहा है। वायरस व्यापक रूप से फैलते हुए, कई संक्रमणों का कारण बनता है, यह उत्परिवर्तन से गुजरता रहता है, जिससे खुद को जीवित रहने का मौका मिलता है। जितना अधिक यह फैलता है, उतने अधिक अवसर इसे उत्परिवर्तित करने के लिए मिलते हैं और इस प्रकार विभिन्न प्रकार के रूपों को यह जन्म देता हैं- अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा, ओमिक्रोन, लैम्ब्डा, म्यू और कौन जानता है कि कितने और...वर्तमान में, ओमिक्रोन वेरिएंट पूरी दुनिया में जंगल की आग की तरह फैल रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, अब तक 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ओमिक्रोन वेरिएंट के कुल 2135 मामलों का पता चला है, जिसमें महाराष्ट्र में सबसे अधिक 653 मामले हैं, इसके बाद दिल्ली में 464, केरल में 185, राजस्थान में 174 मामले हैं , गुजरात 154 और तमिलनाडु मे 121 मामले सामने आए है।

Also Read

More News

3. क्या यह वेरिएंट दूसरे वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है या कम खतरनाक है?

हाल के अध्ययनों से पता चला है कि ओमिक्रोन वेरिएंट का प्रभाव डेल्टा संस्करण की तुलना में कम है, और यह अन्य रूपों के प्रभावों की श्रृंखला में "मध्यम" है। इस प्रकार से जुड़े सबसे आम लक्षण बुखार, खांसी, गले में खराश, नाक बहना, सिरदर्द, शरीर में दर्द और कमजोरी है, जो सामान्य फ्ल्यू के समान होते है। इसमें कम लोगों को सांस फूलने, स्वाद और गंध की हानि का अनुभव होता है। हाल ही में दो नए लक्षण- उल्टी और भूख न लगना भी इस प्रकार के साथ जुड़े हैं। भले ही इस प्रकार पर शोध अभी भी जारी है, कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट वाले लोगों की संख्या में अचानक वृद्धि से पता चलता है कि यह प्रकार ज्यादा संक्रामक है और आसानी से प्रसारित होता है। इसके लिए हमारे पास विभिन्न उपचार के तौर-तरीके हैं- एंटीवायरल, मोनोक्लोनल एंटीबॉडी, गंभीरता के आधार पर कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स और पर्याप्त हाइड्रेशन, उचित पोषण और आराम बनाए रखने के साथ-साथ सहायक दवाएं हैं, जो यह सुनिश्चित करती है कि आप संक्रमित न हों, जैसे कि पुरानी कहावत है "रोकथाम इलाज से बेहतर है"!

4. आप अपनी रक्षा कैसे करते हैं?

हम नीचे दिए गए सामान्य नियमों का पालन (Covid-19 Protocol) करके जोखिम को कम कर सकते हैं। आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना पॉजिटिव वाले अधिकांश लोगों में कोरोना के कोई लक्षण नहीं मिले हैं, मात्र उनसें दूसरों को संक्रमण हो सकता है, इसलिए निर्धारित नियमों का सख्ती से पालन करना जारी रखें। अपने मुंह और नाक को ढकने वाले मास्क का उपयोग करें, सामाजिक दूरी का पालन करें- दूसरों से कम से कम 1 मीटर की शारीरिक दूरी बनाए रखें, सार्वजनिक स्थानों और भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें, हाथों को कीटाणुरहित करने के लिए सैनिटाइज़र का उपयोग करें, साफ साबुन और पानी का उपयोग करें, और यदि आपने पहले टीका नहीं लगाया गया है,तो आपको टीकाकरण कराने जाना चाहिए। यहां तक कि अगर आपको पहले भी कोविड-19 हुआ है, तब भी आपको टीका लगवाने की जरूरत है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि भले ही आपके शरीर ने कोविड -19 वायरस (Corona Virus) के लिए एक प्राकृतिक प्रतिरक्षा विकसित कर ली हो, लेकिन यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि यह कितने समय तक चलेगा, या आप अपनी रक्षा कितनी अच्छी तरह कर सकेंगे।

5. टीका लगवाना बेहद जरूरी

WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना के टीके गंभीर बीमारियों और जान गवाने से महत्वपूर्ण सुरक्षा प्रदान करते हैं। याद रखें कि अधिकतम सुरक्षा पाने के लिए आपको पूर्ण टीकाकरण (Vaccination) की आवश्यकता है। इसके अलावा, एक संतुलित आहार, तनाव में कमी, पर्याप्त आराम और मानसिक स्वास्थ्यकी देखभाल जरूरी है, इसके बाद बीमार व्यक्ति को वायरस और संक्रमण से दूर रखें, जिससे उन्हें उनसे बने के लिए एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली बनाने में मदद मिलेगी।

डॉक्टर इन प्रतिकूल परिस्थितियों में मरीजों को सर्वोत्तम उपचार प्रदान करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं, इसलिए यह जनता की जिम्मेदारी है कि वे सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियमों का पालन करें और टीकाकरण द्वारा वायरस के प्रसार को सीमित करें। एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में, अफवाहों का शिकार न होने का प्रयास करें,बुखार आ जाए तो स्वयं उपचार तथा दवा का सेवन न करें, यदि आपको कोई भी लक्षण दिखें, तो अपने चिकित्सक से परामर्श करें, टेस्ट करवाएं (Covid Test) और टेस्ट के परिणाम आने तक खुद को अलग रखें।

(Inputs: Dr Amit Saraf is Director, Internal Medicine, Jupiter hospital)

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on