Sign In
  • हिंदी

‘मेल बूब्‍स’ से होते हैं शर्मिंदा, एक्‍सरसाइज से भी हो सकते हैं कम 

Changing your diet and exercising the chest muscles can help get rid of man boobs. © Shutterstock

जानें क्‍यों बढ़ जाते हैं कुछ पुरुषों के स्‍तन और क्‍या हो सकता है इलाज।

Written by Yogita Yadav |Published : September 14, 2018 2:37 PM IST

पुरुषों की छाती का आकार इतना बढ़ जाना कि वे स्‍तनों जैसे लगने लगे, को मेडिकल साइंस में गाइनिकोमेस्टिया कहा जाता है। यह एक तरह का हार्मोनल विकार है। पुरुषों या बच्चों में एस्ट्रोजन और टेस्‍टास्‍टेरोन हार्मोन के असन्तुलन के कारण स्तन के टिशुओं के सूजने को गाइनिकोमेस्टिया अर्थात पुरुषों में स्तनों का बढ़ना कहा जाता है।

क्‍यों होता है ऐसा

पुरुषों में स्तन के टिशु बहुत कम मात्रा में होते हैं, जबकि स्त्रियों में किशोरावस्था में ये हार्मोन के प्रभाव से अच्छी तरह विकसित होते हैं। कभी-कभी पुरुषों में स्तनों के बढ़ने पर निप्‍पल का आकार बदलता है और स्त्रियों जैसे बन जाते हैं। हालांकि ये स्त्रियों जैसे बड़े नहीं होते, लेकिन फिर भी आकार में परिवर्तन होने के कारण ये अकसर पुरुष इससे शर्मिंदा महसूस करते हैं। इससे हार्मोन असंतुलन की संभावना का पता चलता है।

Also Read

More News

गाइनिकोमेस्टिया के लक्षण

छाती फूलना, स्तन ग्रन्थि के टिशुओं में सूजन एक या दोनों ओर।

स्तन टिशू में चमड़ी फैलने से दर्द हो सकता है। जोकि अंतरंग इन्फेक्शन को भी दर्शाता है।

ऐसे में निप्‍पल से लिक्विड भी आ सकता है।

किशोरावस्था में निप्‍पल का बड़ा दिखाई देना।

ये हो सकता है कारण

स्त्री व पुरुषों में टेस्टोस्टिरोन और इस्ट्रोजन हार्मोन की वजह से ही यौनांगों का विकास और रखरखाव होता है। पुरुषों टेस्टास्टिरोन से पुरुषत्व जैसे, पेशिय घनता, शरीर के बालों और स्त्रियों में एस्ट्रोजन के अधीन स्त्रीत्व जैसे, स्तन विकास, आदि होते हैं। पुरुषों में एस्ट्रोजन की अपेक्षा टेस्टास्टिरोन के स्तर में  कमी होने से गाइनिकोमेस्टिया होता है। हार्मोन का सन्तुलन कई कारणों से बिगड़ सकता है। ये कारण प्राकृतिक हार्मोन का परिवर्तन, औषधियां या कुछ शारीरिक अवस्थाएं हो सकती हैं। कुछ रोगियों में कई बार गाइनिकोमेस्टिया के कारण का पता नहीं भी लग पता है। इसके अलावा मोटापा, मद्यपान से लीवर फेल होना, सिरोसिस होने पर, हाइपोगोनाडिस्म अवस्था, ट्यूमर, हाइपरथायराइडिज्म व कुछ प्रकार की दवाओं से भी गाइनिकोमेस्टिया हो लकता है।

एक्सरसाइज से भी हो सकते हैं ठीक

कुछ एक्सरसाइजों का नियमित अभ्यास करने से पुरुषों में बढ़े हुए स्तनों की समस्या से निपटा जा सकता है। ये एक्सरसाइज हैं सीने को हष्ट-पुष्ट आकार देने वाली पुश अप एक्सरसाइज, शरीर को ताकत देने वाली व सीने व कंधे को बेहतरीन शेप देने वाली चिन अप एक्सरसाइज, सीने की चौड़ाई को बढ़ाने वाली डंबल फ्लाइज एक्सरसाइज तथा बेंच प्रेस एक्सरसाइज से इसका समाधान किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें – पेशाब पर लग रहीं हैं चींटियां, ये हो सकता है डायबिटीज का लक्षण

ब्रा भी पहननी पड़ सकती है

यह ब्रा उन पुरुषों के लिए होती है जिनके स्तन काफी झूले हुए होते हैं। अगर आप एक्सरसाइज करते समय सहज महसूस नहीं कर पाते हों तो पुरुषों के लिए बनी इस ब्रा को पहन सकते हैं। शुरुआत में आप इस उपाय को अपना सकते हैं और 2 से 3 महीने बाद अपने आप ही आपको इस ब्रा की ज़रुरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि आपको अपने मेन बूब्स से छुटकारा मिल चुका होगा।

यह भी पढ़ें - बेवजह हिलाते रहते हैं पैर, हो सकती है यह गंभीर बीमारी

लिपोसक्शन भी है समाधान

सामान्य ग्रंथियों के ऊतक और वसा की वृद्धि ही गाइनिकोमेस्टिया होती है। लिपोसक्शन की मदद से स्तनों को पुरुषों जैसा सामान्य आकार दिया जा सकता है। ऐसा करने के लिये अतिरिक्त वसा को इस स्थान से निकाल दिया जाता है। लेकिन यह प्रक्रिया निप्‍पल और परिवेश के नीचे की कठिन ग्रंथियों के ऊतकों के लिए उतनी प्रभावी नहीं होती है। ज्यादातर मामलों में लिपोसक्शन की मदद से घेरे के रंजित (पिमेंटिड) भाग के किनारों पर चीरे लगाकर अतिरिक्त ग्रंथियों के ऊतकों को हटाने का काम किया जाता है। जब पुरुषों में स्तन वृद्धि के कारण त्वचा खिंच जाती है तो अतिरिक्त त्वचा को हटाना जरूरी हो जाता है। इसके अलावा पुरुष स्तनों के आकार को कम करने के लिए तुमेसेन्ट (Tumescent) लिपोसक्शन को भी लोकल ऐनिस्थीश़िया की मदद से किया जाता है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on