Advertisement

मप्र में बढ़े कोरोना के मामले, मप्र-महाराष्ट्र के बीच अंतर्राज्यीय बस परिवहन सेवा 15 अप्रैल तक बंद

विभिन्‍न राज्‍यों में कोरोना के चलते नियम कड़े कर दिए गए हैं। कई शहरों में लॉकडाउन लगा दिया गया है। कोरोना वायरस के कारण मध्‍य प्रदेश और महाराष्‍ट्र के बीच चलने वाली सरकारी बसों पर भी रोक लगा दिया गया है।

कोरोना संक्रमण (Covid-19) के बढ़ते प्रभाव के मद्देनजर मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लगातार एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं, उसी क्रम में मध्य प्रदेश-महाराष्ट्र के बीच अंतर्राज्यीय बस परिवहन सेवा को 15 अप्रैल तक बंद रखने का फैसला कोरोना की समीक्षा बैठक में लिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने राज्य में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने तमाम अधिकारियों से कोरोना की स्थित की जानकारी ली। महाराष्ट्र में कोरोना के संक्रमण में हो रही बढ़ोत्तरी के मद्देनजर मध्य प्रदेश-महाराष्ट्र के बीच बस परिवहन सेवा को 15 अप्रैल तक बंद रखने का फैसला हुआ।

पहले भी बाधित रही हैं बस सेवा

ज्ञात हो कि पूर्व में मध्य प्रदेश-महाराष्ट्र के बीच बस परिवहन सेवा को 21 से 31 मार्च के मध्य स्थगित किया गया था। अब बस परिवहन सेवा 15 अप्रैल तक बंद रहेगी।

भोपाल की स्थिति के बारे में कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि, "भोपाल के अस्पतालों में बेड क्षमता चार से छह हजार है। वैक्सीनेशन के 171 केंद्र बनाए गए हैं। वैक्सीनेशन के लिए धर्म गुरु भी जागरूक कर रहे हैं। भोपाल में अनेक धर्मगुरु सार्वजनिक तौर पर वैक्सीन लगवा चुके हैं, जिससे अन्य लोग को प्रेरणा मिलती है।"

Also Read

More News

शिवराज सिंह चौहान ने संक्रमण पर जताई चिंता

मुख्यमंत्री चौहान ने इंदौर, भोपाल, जबलपुर, खरगोन की स्थिति पर चिंता जताई और कहा कि इन स्थानों पर कुछ माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाकर कोरोना को नियंत्रित किया जाए।

राज्य के विभिन्न जिलों में रात्रि का कर्फ्यू लगाया जा रहा है, वहीं रविवार को कई जिलों में पूर्णबंदी रहती है, साथ ही मास्क का उपयोग न करने वालों पर जुर्माना लगाया जा रहा है।

(आईएएनएस)

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on