Advertisement

पैरों में सूजन, जानें आप किस बीमारी की हो रही हैं शिकार

शाम के समय सूजन आए और थोड़ी देर आराम करने पर ठीक हो जाए, तो यह हृदय से संबंधित समस्याओं की तरफ इशारा करता है।

ज्यादातर महिलाओं को पैरों व टखनों में सूजन की शिकायत रहती है। कई बार सूजन टाइट व हाई हील सैंडल पहनने या फिर लगातार खड़े होकर काम करने से भी होती है, जो आराम करने से खुद ब खुद ठीक हो जाता है। जब पैरों व टखनों में सूजन लगातार रहने लगे, तो यह आपके हृदय के लिए समस्या उत्पन्न कर सकती है। फिजिशियन डॉ. जुगल किशोर कहते हैं कि शरीर में अतिरिक्त तरल जमा होने कि वजह से पैरों व टखनों में सूजन होती है, जिसे पेरिफेरल एडिमा कहते हैं। खासकर, महिलाओं में हृदय से संबंधित कोई समस्या होने पर सूजन हमेशा पैरों में आती है।

यह भी पढ़ें- आजमाएं ये टिप्स, कम होगा डिलीवरी में लेबर पेन

जब शाम में हो सूजन

Also Read

More News

यदि किसी महिला को शाम के समय सूजन आए और थोड़ी देर आराम करने पर ठीक हो जाए, तो यह हृदय से संबंधित समस्याओं की तरफ इशारा करता है। इलेक्ट्रोफिजियोलॉजिस्ट डॉ. अपर्णा जसवाल कहती हैं कि शरीर में अतिरिक्त तरल जमा होने से हृदय से खून का प्रवाह कम हो जाता है और बैक-अप के लिए नसों के जरिए खून वापस हृदय में पहुंचता है, जिसकी वजह से पेट और शरीर के निचले हिस्से में तरल जमा होता है, जिससे रक्त का जमाव होता है। संभवत: आपके पैरों और टखनों में सूजन दिन में ज्यादा दिखाई दे, क्योंकि गुरुत्त्वाकर्षण से शरीर के निचले हिस्सों में खून की मात्रा और दबाव में वृद्धि होती है।

यह भी पढ़ें- रात की शिफ्ट बिगाड़ रही है महिलाओं की सेहत? आजमाएं ये उपाय

swelling in woman1

पहचानें कैसे

1 महिलाओं में प्रेग्नेंसी, प्रोटीन और हिमोग्लोबीन की कमी, खड़े रहने वाले काम करने और वेरिकोज वेंस होने पर भी सूजन की परेशानी होती है। सुबह की बजाय शाम के वक्त सूजन होना, चलने पर सांस फूलना और सोने के बाद सूजन कम होना, ये कुछ ऐसी स्थितियां हैं, जो हृदय रोग की तरफ इशारा करती हैं। ऐसे में बिना देर किए डॉक्टर से हृदय की जांच कराएं।

2 इससे बचने के लिए खूब चलें, दिन में पैरों को ऊपर करके लेटें, एक ही अवस्था में देर तक खड़े होकर काम न करें। बीच-बीच में ईसीजी, हिमोग्लोबीन, रक्त दबाव की भी जांच करवाती रहें।

3 हृदय से जुड़ी अन्य समस्याएं, जो हार्ट फेल होने का कारण बन सकती हैं वे हैं कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज, हार्ट अटैक, हार्ट वॉल्व लीक करना या संकरे हो जाना, उच्च रक्तचाप, असामान्य हार्ट वॉल्व, हृदय का बड़ा होना (कार्डियोमायोपैथी) आदि। यदि आपको लगातार पैरों में सूजन रहता है, तो डॉक्टर से बिना देर किए जरूर मिलें।

चित्रस्रोत: Shutterstock.

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on