Sign In
  • हिंदी

15-18 वर्ष के किशोरों के लिए वैक्सीनेशन का महत्व, वैक्सीन के साइड एफेक्ट्स पर पीडियाट्रिशियन ने बताया विस्तार से...

15-18 वर्ष के किशोरों के लिए वैक्सीनेशन का महत्व, वैक्सीन के साइड एफेक्ट्स पर पीडियाट्रिशियन ने बताया विस्तार से...

कुछ पेरेंट्स के मन में बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर कई डर, सवाल हैं जैसे वैक्सीन के साइड एफेक्ट्स क्या होंगे आदि। इन सभी सवालों का जवाब हमें एक बातचीत के दौरान दिया एसएल रहेजा हॉस्पिटल, माहिम-ए फोर्टिस एसोसिएट (मुंबई) की कंसलटेंट नियोनैटोलॉजिस्ट और पीडियाट्रिशियन डॉ. अस्मिता महाजन ने।

Written by Anshumala |Updated : January 19, 2022 8:31 AM IST

Covid-19 child vaccination: भारत में 15-18 वर्ष के किशोरों के लिए कोरोना वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत 3 जनवरी से हो चुकी है। पहले दिन ही 40 लाख से भी अधिक किशोरों को टीका लगाया गया था। 18 वर्ष से कम उम्र के किशोरों को देश में भारत बायोटेक द्वारा निर्मित कोविड वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) लगाई जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandaviya) ने मंगलवार को घोषणा करते हुए कहा कि भारत की 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग की 50 प्रतिशत से अधिक आबादी को कोविड-19 वैक्सीन की पहली खुराक मिल गई है। युवाओं में भी पहले दिन से ही कोरोना वैक्सीनेशन (vaccination drive for teenagers) को लेकर काफी उत्साह देखा गया है। हालांकि, आज भी कुछ पेरेंट्स के मन में वैक्सीनेशन को लेकर एक डर है कि वैक्सीन लगाने से उनके बच्चे को कुछ हो ना जाए। वैक्सीन के साइड एफेक्ट्स क्या होंगे, किन बच्चों को वैक्सीन लगवाना चाहिए, किस बीमारी के होने पर वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए जैसे कई सवाल उनके मन में आते हैं। इन सभी सवालों का जवाब हमें एक बातचीत के दौरान दिया एसएल रहेजा हॉस्पिटल, माहिम-ए फोर्टिस एसोसिएट (मुंबई) की कंसलटेंट नियोनैटोलॉजिस्ट और पीडियाट्रिशियन डॉ. अस्मिता महाजन (Dr. Asmita Mahajan, Consultant Neonatologist & Pediatrician, SL Raheja Hospital, Mahim-A Fortis Associate, Mumbai) ने।

बच्चों को वैक्सीन लगवाना क्यों है जरूरी?

बड़ों की ही तरह बच्चों के लिए भी कोरोना वैक्सीन बेहद जरूरी है, खासकर उन बच्चों या किशोरों के लिए जिन्हें कोई गंभीर समस्या है। देश में किशोरों के लिए अभी सिर्फ कोवैक्सीन को अप्रूवल मिला है और यही वैक्सीन लगाई जा रही है। ऐसे में पेरेंट्स को डरने की जरूरत नहीं है। अपने बच्चों को जरूर टीका लगवाएं।

Also Read

More News

वैक्सीन के साइड एफेक्ट्स क्या हो सकते हैं?

जैसा कि बच्चों को कोवैक्सीन लगाई जा रही है और इसके साइड एफेक्ट्स भी बेहद कॉमन नजर आते हैं। बुखार, हल्का सिरदर्द, इंजेक्शन जहां लगी है, वहां हल्का दर्द, बदन दर्द हो सकता है, जो खुद ब खुद 48 घंटों के अंदर ठीक हो जाता है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on