Sign In
  • हिंदी

''एचपीवी'' सेक्स से फैलने वाले इस खतरनाक वायरस को जान लें

ह्यूमन पैपिलोमावाइरस संक्रमण के कारण पुरुषों और महिलाओं में मुंह, गला या मलाशय में कैंसर विकसित हो सकता है। महिलाओं में इसके कारण सर्वाइकल या योनि कैंसर भी हो सकता है।

Written by Anshumala |Published : August 10, 2018 4:27 PM IST

ह्यूमन पैपिलोमावाइरस (एचपीवी) एक यौन संचारित रोग है, जिसमें व्यक्ति के हाथों, पैरों और जननांगों पर मस्से बनने लगते हैं। कुछ प्रकार के एचपीवी कुछ व्यक्तियों में कैंसर पैदा कर सकते हैं। एचपीवी एक ऐसा वायरस होता है, जो यौन संभोग के माध्यम से त्वचा से दूसरे व्यक्ति की त्वचा में फैल सकता है या इसके अन्य रूप जननांगों के संपर्क में त्वचा में फैल सकते हैं। संक्रमण से शरीर के विभिन्न अंगों पर मस्सा हो जाता है। जैसे कुछ रूप पैरों के तल पर मस्सा का कारण बनता है, जबकि अन्य मस्सा जो आम तौर पर चेहरे या गर्दन पर दिखाई देते हैं। कई बार बच्चे के जन्म लेने के दौरान उनमें भी एचपीवी वायरस फैल सकता है, जो बच्चे में उसकी मां के श्वसन या जननांगों में संक्रमण से फैलता है।

ग्रीवा कैंसर (cervical cancer) ज्यादातर एचपीवी खिंचाव के कारण होता है, जो आमतौर पर मस्सा का कारण नहीं बनता है, इसलिए महिलाओं को यह महसूस करना मुश्किल होता है कि वे संक्रमित हो चुकी हैं। हालांकि, कुछ एचपीवी खिंचाव के बार-बार संक्रमण अंत में पूर्व कैंसर घावों को जन्म दे सकता है। यदि इलाज न किया जाए, तो वे कैंसर हो सकते हैं। हालांकि, ज्यादातर एचपीवी के संक्रमण अपने आप ठीक हो जाते हैं। कई बार ये निष्क्रिय रह सकते हैं और नए यौन साथी को संक्रमित कर सकते हैं।

कितने प्रकार के होते हैं एचपीवी

Also Read

More News

एचपीवी 150 से अधिक संबंधित वायरसों का एक समूह है। इस ग्रुप के वायरसों में हर किसी वायरस को एक नंबर दिया गया है, वही उसका नाम और प्रकार होता है। एचपीवी को मस्सा के लिए नामांकित किया जाता है, जो एचपीवी के कुछ प्रकार के वायरस के कारण हो सकता है। इनमें से कुछ वायरस कैंसर के कारण भी बन सकते हैं। इस संक्रमण के कारण पुरुषों और महिलाओं में मुंह, गला, गुदा या मलाशय में कैंसर विकसित हो सकता है। महिलाओं में इसके कारण सर्वाइकल या योनि कैंसर भी हो सकता है। वैसे कुछ टीके उपलब्ध हैं, जो एचपीवी से होने वाले संक्रमणों को रोकने का काम करते हैं।

human papillomavirus infection 3

इसके लक्षण क्या हैं

कई मामलों में मस्सा बनने से पहले शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली एचपीवी संक्रमण को खत्म कर देती है। इसमें जननांग मस्सा (genital warts), सामान्य मस्सा, तलवे का मस्सा, सपाट मस्सा नजर आता है। यदि आपको या आपके बच्चे को किसी प्रकार का मस्सा है, जिसमें दर्द है या बेचैनी महसूस हो रही है, तो डॉक्टर से जरूर मिलें।

एचपीवी संक्रमण के कारक

एक से अधिक सेक्स पार्टनर, उम्र, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, क्षतिग्रस्त त्वचा, व्यक्तिगत संपर्क से इसके होने का खतरा बढ़ जाता है।

बचाव के लिए एचपीवी टीका

वर्तमान में दो टीके हैं, जो एटपीवी 16 और 18 दोनों के खिलाफ बचाव करते हैं। ये सर्वाइकल कैंसर के मामले में 70 प्रतिशत का कारण बनते हैं।

human papillomavirus infection 1

मस्से को न छुएं

सामान्य मस्से पैदा करने वाले एचपीवी संक्रमण की रोकथाम करना कठिन होता है। यदि आपको सामान्य मस्से हो गए हैं, तो आप उन्हें छूने या खरोंचने से बचाव करके, संक्रमण फैलने और नए मस्से विकसित होने से रोकथाम कर सकते हैं।

टेस्ट में क्या

इसका विनेगर सॉल्यूशन टेस्ट, पेप टेस्ट, डीएनए टेस्ट करके पता लगाया जाता है। विनेगर सॉल्यूशन टेस्ट में एचपीवी से संक्रमित जगह पर विनेगर सॉल्यूशन लगाने से संक्रमित हिस्सा सफेद हो जाता है, इससे घावों की पहचान करने में मदद मिलती है। पेप टेस्ट में डॉक्टर महिलाओं के सर्विक्स या गुप्तांग से सैंपल निकालते हैं और उसे विश्लेषण के लिए लैबोरेटरी टेस्ट में भेजते हैं। इससे पता चलता है कि कैंसर होने की तो संभावना नहीं है।

चित्रस्रोत: Shutterstock.

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on