Advertisement

खुद के बारे में कितना जानती हैं आप

अपने निजी अंगों के बारे में हर महिला को होनी चाहिए यह जानकारी।

अब भी बहुत सी महिलाएं सेक्‍सुअल हेल्‍थ पर बात करने से झिझकती हैं। जिसकी वजह से वे कई गंभीर रोगों की शिकार हो जाती हैं। जबकि सेक्‍सुअल हेल्‍थ भी हेल्‍थ का ही एक हिस्‍सा है।

शरीर के अंग ही तो हैं

हमें अपने फेफड़े, लिवर, और दिल के बारे में तो बड़ी जानकारी है, लेकिन ओवरी के बारे में शायद ही हमें ज्यादा पता हो। आखिर यह भी तो आपके शरीर का अंग ही है। असल में यही वो अंग है जहां पर औरत को मां बना सकने वाले अंडे बनते हैं। यही अंडे स्पर्म (शुक्राणु) के साथ मिलकर एक बच्चे को बनाते हैं।

Also Read

More News

हर महीने बदलता है ओवरी का साइज़

शरीर के बाकी अंग भले ही एक साइज़ पर आकर रुक जाएं, ओवरीज़ हमेशा बदलती रहती हैं। ये उम्र के साथ और पीरियड्स के दौरान साइज़ में बदलती रहती हैं। जब ये अंडा बना रही होती है तो ये आकार में बढ़ जाती हैं। लगभग पांच सेंटीमीटर तक। सिस्ट यानी गांठ हो जाने की वजह से भी इनके साइज़ में फ़र्क पड़ता है।

मेनोपॉज के बाद रुक जाता है आकार बदलना

हर महीने बदलने वाला ओवरी का साइज मेनोपॉज के बाद आकार बदलना बंद कर देता है। पर यह घबराने वाली बात नहीं है, बल्कि एक नेचुरल प्रोसेस है। मेनोपॉज़ के साथ ही यह सिकुड़ जाती हैं।

यह भी पढ़ें - गर्भावस्‍था में न हो विटामिन ई की कमी, वरना रुक सकता है बच्‍चे का विकास

आपका स्‍ट्रेस रोकता है इसका काम

जिस समय आपकी ओवरीज़ अंडे बना रही होती हैं उसे ओव्यूलेशन कहते हैं। इस पीरियड में स्ट्रेस का बहुत असर पड़ता है। मतलब अगर आप वाकई बहुत ज़्यादा स्ट्रेस में हैं, तो आपकी ओवरीज़ अंडे बनाना बंद कर देगी।

यह भी पढ़ें – क्या इश्‍क में बढ़ जाती है फि‍टनेस ?

पिल्‍स की दोस्‍त

डॉक्टरों की माने तो बर्थ कंट्रोल पिल्स ओवरीज़ का बड़ा फ़ायदा करती हैं। सुनने में अजीब लगा क्या? पर ये सच है। असल में गर्भनिरोधक गोलियां ओवरी की दोस्‍त होती हैं। इमरजेंसी पिल्‍स की बजाए अगर आप नियमित गर्भनिरोधक गोलियां लेती हैं तो ओवरी कैंसर का खतरा काफी कम हो जाता है।

यह भी पढ़ें - ‘फेमिनिज्म’ को लेकर लोगों में समझ कम : राधिका आप्टे

न घबराएं ओवेरियन सिस्ट से

ओवरी में बहुत सी औरतों को सिस्ट हो जाता है। सिस्ट बोले तो कैविटी-नुमा चीज़ जिसमें पस भर जाता है। इसे ठीक करने के लिए सर्जरी और दवाइयों का भी विकलप है। पर हर सिस्ट ख़तरनाक नहीं होता। इनमें से कई सिस्ट तीन से चार महीनों में अपने आप ठीक हो जाते हैं। बिना कोई दवाई खाएं या डॉक्टर को दिखाए, इसलिए घबराइएगा मत। पर अगर सिस्‍ट का आकार बढ़ रहा है तो इसके लिए तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on