Sign In
  • हिंदी

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को करना है कम, डायट में शामिल करें ये हाई फाइबरयुक्त ये सब्जियां

NCDIR का दावा, 2025 तक 15.7 लाख लोगों को हो सकता है कैंसर

रिसर्च में बताया गया है कि अगर किशोरास्था में ही महिलाओं को उच्च फाइबर (High Fiber) वाले खाद्य पदार्थ, खासतौर से फल और सब्जियों का सेवन कराया गया हो, उन महिलाओं के मुकाबले स्तन कैंसर का खतरा कम होता है, जिन्होंने फाइबर युक्त भोजन का सेवन कम किया हो। हार्वर्ड टीएच चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोधकर्ताओं द्वारा यह रिसर्च किया गया है। 

Written by Kishori Mishra |Published : April 10, 2020 5:13 PM IST

आधुनिक जीवन-शैली के चलते स्तन कैंसर (Breast Cancer) का खतरा काफी बढ़ रहा है। आम तौर पर स्तन कैंसर 45 से 50 साल की अवस्था में महिलाओं को होता था, लेकिन अस्वास्थ्यकर जीवन-शैली के कारण ये उम्र घटकर 25 से 30 साल हो गई है। हाल ही में एक रिसर्च सामने आया है कि अगर किशोरावस्था में उच्च फाइबर युक्त वाले खाद्य पदार्थों का सेवन किया जाए, तो युवा महिलाओं में स्तन कैंसर (Breast Cancer) का खतरा कम हो सकता है। यह स्टडी जर्लन पीडियाट्रिक्स में प्रकाशित हुआ है।

रिसर्च में बताया गया है कि अगर किशोरास्था में ही महिलाओं को उच्च फाइबर (High Fiber) वाले खाद्य पदार्थ, खासतौर से फल और सब्जियों का सेवन कराया गया हो, उन महिलाओं के मुकाबले स्तन कैंसर का खतरा कम होता है, जिन्होंने फाइबर युक्त भोजन का सेवन कम किया हो। हार्वर्ड टीएच चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोधकर्ताओं द्वारा यह रिसर्च किया गया है।

आंकड़ों के मुताबिक, भारत में हर आठ में एक महिला स्तन कैंसर  (Breast Cancer) की चपेट में है। विशेषज्ञों का कहना है कि स्तन कैंसर इस बीमारी के सभी प्रकारों में सबसे आम है और भारत में इससे पीड़ित महिलाओं की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है।

Also Read

More News

स्तन कैंसर (Breast Cancer) के लक्षण 

  • किसी स्तन में या बाहों के नीचे गांठ
  • किसी स्तन के आकार, आकृति या ऊंचाई में अचानक कोई बदलाव दिखना
  • स्तन या निप्पल का लाल हो जाना
  • स्तन से साफ या खून जैसे द्रव का बहना
  • ब्रेस्ट कैंसर से बुजुर्ग महिलाएं भी सुरक्षित नहीं।
  • स्तन के टिश्यू या त्वचा का ज्यादा समय तक सख्त बने रहना
  • स्तन या निप्पल की त्वचा पर कुछ अलग दिखना या अनुभव होना (डिंपल दिखना, जलन होना, लकीरें दिखना या सिकुड़न अनुभव होना)
  • स्तन का कोई हिस्सा बाकी हिस्सों से अलग दिखाई देना
  • स्तन की त्वचा के नीचे कहीं सख्त अनुभव होना

हाई फाइबर (High Fiber) युक्त हरी सब्जियां

ओट्स फाइबर युक्त फूड्स में से एक है। इसके अलावा दलिया, गेंहू और अलसी जैसे अनाज में हाई फाइबर (High Fiber) होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अनाज के अलावा सब्जियां भी फाइबर (High Fiber) युक्त होती हैं। आज हम आपको उन्हीं सब्जियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो हाई फाइबर गुणों से भरपूर होता है।

करेला

कड़वा करेला सेहत को लिए बहुत बढ़िया है। तेजी से वजन घटाना चाहते हैं तो करेले का सेवन करें। इससे डायबिटीज और कब्ज से भी राहत मिलती है। शाकाहारी लोगों को इस पोधे से मिलेगा विटामिन बी12

तरोई

हरी सब्जियो में तरोई को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। यह लिवर स्वस्थ,खून साफ, पाचन क्रिया बेहतर और किडनी के रोगों से राहत दिलाने का काम करती है।

कद्दू

कद्दू का नाम सुनते लोग दूर भागते हैं लेकिन इसमें फोलिक एसिड, विटामिन सी,जिंक और मैगनीज भरपूर माात्रा में शामिल होते हैं। यह स्किन और हड्डियों के लिए बहुत लाभकारी है। प्रेगनेंसी में क्यों नहीं लेना चाहिए ये विटामिन, जानें एक्सपर्ट्स की राय।

बैंगन

फाइबर से भरपूर बैंगन कोलेस्ट्रॉल लेवल को घटाने का काम करता है। इसके अलावा ब्लड शूगर के मरीजों के लिए भी यह बहुत फायदेमंद है।

फ्रेंच बीन्स

फ्रेंच बीन्स यानि फलियां विटामिन ए,सी बी आदि सहित कई खनिज पदार्थों से भरपूर होती हैं। यह वजन घटाने और पेट की समस्याओं के लिए बैस्ट है।

फूलगोभी

मैग्नीज, फॉस्फोरस, विटामिन बी कंपोनेंट्स से भरपूर फूलगोभी में कैलरी, प्रोटीन और विटामिन सी की भी बहुत अच्छी मात्रा होती है। इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। अगर विटामिन डी की मात्रा शरीर में है पर्याप्त तो कोलन कैंसर होने का खतरा है कम।

पढ़ें ये भी-  वायरल इंफेक्शन के लिए रामबाण है आयोडीन, नमक के इन 6 चीजों से कर सकते हैं प्राप्त 

घर बैठे-बैठे करें ये 5 आसान से योगासन, डायबिटीज जैसी गंभीर समस्या होगी कंट्रोल

कई बीमारियों के लिए रामबाण है गिलोय का जूस, जानें कैसे करें तैयार

क्या कलौंजी के बीज कोरोना वायरस से लड़ने में है सक्षम? जानिए पूरा सच

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on