Advertisement

सहजन के पत्‍तों से दूर करें पीरियड्स का दर्द, जानिए कैसे

क्या पीरियड्स के दौरान आप दर्द और ऐंठन से परेशान रहती हैं?

Read this in English.

सहजन (Drumstick) का पेड़ जड़ से लेकर फूल-पत्तियों तक सेहत का खजाना है। भारत में खासकर दक्षिण भारत में इसका उपयोग विभिन्न व्यंजनो में खूब किया जाता है। इसका तेल भी निकाला जाता है और इसकी छाल,पत्ती, गोंद, जड़ आदि से आयुर्वेदिक दवाएं बनाई जाती हैं। क्‍या आप जानते हैं कि सहजन के पत्‍तों का उपयोग मेन्स्ट्रुअल पेन (menstrual pain) यानि पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और ऐंठन को दूर करने के लिए कर सकते हैं। जी हां, सहजन के पत्‍तों में भारी मात्रा में विटामिन और मिनरल्‍स होते हैं, जो आपको इन कठिन दिनों में इन समस्‍याओं से आराम दिलाने में सहायक सिद्ध हो सकते हैं। पढ़ें- सहजन के मुट्ठी भर फूल आपकी सेक्स लाइफ में लाएंगे बहार

कैसे मदद करते हैं सहजन के पत्ते?

Also Read

More News

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फाइटोथेरेपी में छपी एक रिसर्च के अनुसार, सहजन में एमेनागोग (emmenagogue) गुण (पेट के लिए रक्त के प्रवाह को नियमित करना) होते हैं, जिससे पीरियड्स के दौरान दर्द और ऐंठन को कम करने में मदद मिलती है। इसके पत्‍तों में भारी मात्रा में आयरन और कैल्शियम होता है। पत्‍तों का रस शहद के साथ मिलाकर पीने से एनीमिया के जोखिम को कम किया जा सकता है। संयोग से आयुर्वेद में भी इस बात का जिक्र किया गया है कि माहवारी के दिनों में पेट की खून की कमी के कारण ऐंठन हो जाती है।

शरीर को मज़बूत बनाने में सहायक

आपके शरीर में आयरन की कमी को पूरा करने के अलावा सजहन के पत्‍ते आपके शरीर को मजबूत बनाने और पोषक तत्‍वों की कमी को भी पूरा करने में सहायक हैं। इसके अलावा ये ब्‍लड फ्लो कन्‍ट्रोल करते हैं और गर्भाशय, पीठ और पेट के दर्द से राहत दिलाते हैं।

ऐसे करें इस्तेमाल

  • सहजन के कुछ पत्‍ते लेकर उन्‍हें अच्‍छी तरह धो लें।
  • उन्‍हें अच्‍छी तरह मसलकर उनका रस निकाल लें।
  • जूस को कप में डालें और उसमें एक चम्‍मच शहद मिलाएं।
  • इस मिश्रण को माहवारी के शुरुआती तीन दिन ही सुबह खाली पेट पिएं।

(नोट -ये एक घरेलू उपाय है और इसका इस्‍तेमाल चिकित्‍सक की सलाह के बाद ही करें।)

मूल स्रोत -Use drumstick leaves to beat menstrual pain

अनुवादक – Usman Khan

चित्र स्रोत - Shutterstock

संदर्भ: NATURAL AND AYURVEDIC REMEDIES FOR ADOLESCENCE DYSMENORRHEA. Anuradha D. International Journal of Phytotherapy. Inter. J. of Phytotherapy. Vol 5, Issue 1,2015, 33-36.

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on