• हिंदी

हफ्ते में सिर्फ 3 बार इस फूल की चाय पीने से होता है ये बड़ा लाभ

हफ्ते में सिर्फ 3 बार इस फूल की चाय पीने से होता है ये बड़ा लाभ

अगर आप मूत्र मार्ग में संक्रमण (UTIs) से पीड़ित हैं, तो hibiscus फूल की चाय ज़रूर ट्राई करें!

Written by Editorial Team |Updated : January 5, 2017 8:37 AM IST

Read this in English.

अनुवादक – Usman Khan

हर्बल चाय का विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। आपको बता दें कि हर्बल चाय का साकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है। मूत्र मार्ग में संक्रमण (यूटीआई) एक ऐसी गंभीर समस्या है, जिसमें चिकित्सा सहायता की ज़रुरत हो सकती है। लेकिन इसके जोखिम को घरेलू उपचार की मदद से काफी हद तक रोका जा सकता है। ये बैक्टिरीयल इंफेक्शन वाली बीमारी महिला और पुरूष दोनों को किसी भी समय हो सकती है। इंफेक्शन से बचने के लिए सबसे ज़रूरी मूत्र मार्ग में फंगल और माइक्रोबियल को बढ़ने से रोकना होता है। इंफेक्शन से बचने के लिए आप हिबिस्कुस (hibiscus) फूल यानि जपाकुसुम या गुड़हल का इस्तेमाल कर सकते हैं। पढ़ें- इस फूल को चाय और पानी में डालकर पीने से दूर होगा बुखार

Also Read

More News

गुड़हल का फूल यूटीआई में कैसे सहायक है

शोधकर्ताओं ने यूटीआई से पीड़ित लगभग 61 महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन में पाया कि इस फूल का सेवन करने वाली महिलाओं के इन्फेक्शन में 77 फ़ीसदी कमी हो गयी थी। एक दूसरे अध्ययन के अनुसार, इसके एंटीफंगल और एंटीमाइक्रोबल गुणों का कैनडीडा अल्बिकन्स (candida albicans) पर प्रभाव पड़ता है। इसमें मौजूद पोषक तत्वों से मूत्र मार्ग के हानिकारक बैक्टीरिया को ख़त्म करने में मदद मिलती है। इसकी चाय में मौजूद फ्लेवोनोइड्स (flavonoids) से ई कोली (E.coli) को रोकने में मदद मिलती है, जिससे यूटीआई का जोखिम कम होता है।

इसका इस्तेमाल ऐसे करें

आप इस फूल का काढ़ा बनाकर दिन में दो बार पी सकते हैं। इससे आपको इन्फेक्शन से लड़ने और उसे बढ़ने से रोकने में मदद मिलती है। इसके अलावा गुड़हल की चाय टी बैग के रूप में बाज़ार में उपलब्ध होती है। आप इन्फेक्शन से बचने के लिए एक हफ्ते में 2 से 3 बार पी सकते हैं। इससे आपको लाभ होगा।

चित्र स्रोत - Shutterstock

संदर्भ- Allaert F. Double-blind, placebo-controlled study of Hibiscus sabdariffa L extract in the prevention of recurrent cystitis in women. Poster presented at the Federative Pelviperineal Diagnostics and Procedures Meeting: Convergences in Pelviperineal Pain. Nantes, France: December 16-18, 2009.

Jiménez-Ferrer, E., Alarcón-Alonso, J., Aguilar-Rojas, A., Zamilpa, A., Jiménez-Ferrer, C. I., Tortoriello, J., & Herrera-Ruiz, M. (2012). Diuretic effect of compounds from Hibiscus sabdariffa by modulation of the aldosterone activity. Planta medica78(18), 1893-1898.

Alshami, I., & Alharbi, A. E. (2014). Hibiscus sabdariffa extract inhibits in vitro biofilm formation capacity of Candida albicans isolated from recurrent urinary tract infections. Asian Pacific journal of tropical biomedicine4(2), 104-108.