Advertisement

कमर दर्द के कारण और इससे बचने के आसान उपाय

Tips to tackle your tailbone pain. © Shutterstock

लोअर बैक पैन की अनदेखी करना आपको इसलिए पड़ सकता है महंगा

Read this in English.

अनुवादक – Usman Khan

लोअर बैक यानि कमर में दर्द होने पर आप क्या करते हैं? हो सकता है आप गर्म पानी के बैग से सिकाई करते हों, बाम लगाते हों या पेनकिलर लेते होंगे। मशहूर आर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर समरजीत चक्रवर्ती के अनुसार, लोअर बैक में दर्द होना कई जटिलताओं का संकेत हो सकता है, इसलिए आपको इन बातों को जानना बहुत ज़रूरी है। लोग अक्सर पीठ के निचले हिस्से के दर्द को अनदेखा कर देते हैं। वास्तव में डॉक्टर को भी इसके कारण का पता लगाने में परेशानी हो सकती है। हालांकि मरीजों के चेहरे के भाव, दर्द की अवधि और रोजाना की गतिविधियों के द्वारा एक निश्चित सीमा तक इस दर्द की गंभीरता का आंकलन करने में मदद मिल सकती है। बैक पैन मांसपेशियों और हड्डियों की संरचना के कामकाज में विकार के कारण भी हो सकता है। इसके अलावा किडनी स्टोन, डिस्क प्रोलेप्स, हार्ट फेल या ऑस्टियोआर्थराइटिस जैसे रोगों के कारण भी कमर में दर्द हो सकता है। पढ़ें- दफ्तर में काम के दौरान पीठ दर्द से बचने के 6 उपाय

Also Read

More News

अवधि और तीव्रता के आधार पर कमर दर्द का आंकलन

पीठ में तेज दर्द- ये कम अवधि के लिए लेकिन तेज होने वाला दर्द होता है।

पीठ में लगातार दर्द- जब दर्द लंबी अवधि और तीव्रता में वृद्धि या कमी के साथ होता है।

कोक्सीडैनिया (Coccydynia)- अगर आप टेलबोन (कोक्सीक्स) में दर्द का अनुभव करते हैं, तो आप कोक्सीडैनिया से पीड़ित हो सकते हैं।

साइऐटिका (sciatica)- अगर दर्द बढ़ता हुआ पैरों में जा रहा है तो ये साइऐटिका का संकेत हो सकता है।

लोअर बैक पैन के कारण

मसल्स में खिचांव- ये लोअर बैक पैन के सबसे आम कारणों में से एक है। मसल्स में ऐंठन होना शुरुआत में पता चल सकता है लेकिन कुछ हफ्ते के भीतर ये पता नहीं चल पाता है।

डिस्कोजेनिक बैक पैन- इंटरवर्टिब्रल डिस्क का डैमेज होना पीठ दर्द का कारण बन सकता है। ज्यादातर मामलों में डिस्क रीढ़ के जोड़ से बाहर नहीं फैलती हैं। इसमें दर्द तेज होता है।

स्पाइनल स्टेनोसिस- ये समस्या बुजुर्गों को ज्यादा होती है। उम्र बढ़ने पर स्पाइनल कैनाल गठिया या अन्य परिस्थितियों की वजह से संकरा हो जाता है और बदले में पीठदर्द का कारण बन सकता है।

लंबर स्पाइन आर्थराइटिस- गठिया सबसे अधिक घुटनों और उंगलियों जैसे जोड़ों को प्रभावित करता है। स्पाइन में आर्थराइटिस दर्द का कारण बन सकता है।

ऑस्टियोपोरोसिस- यह आर्थोपेडिक समस्याओं का कारण बन सकता है। ऑस्टियोपोरोसिस से पीठ दर्द सबसे अधिक रीढ़ के जोड़ में फ्रैक्चर से संबंधित है।

लोअर बैक पैन को ऐसे रोका जा सकता है

  • बैक पैन होने पर आगे झुकने से बचें।
  • भारी सामान ना उठाएं।
  • अगर आप मोटे हैं तो वजन घटाने का प्रयास करें।
  • झटके वाली एक्सरसाइज़ से बचें।
  • बैठते समय अच्छी मुद्रा बनाए रखें।

चित्र स्रोत - Shutterstock


Total Wellness is now just a click away.

Follow us on