Advertisement

विटामिन ई के अत्यधिक सेवन से आपको हो सकते हैं ये नुकसान!

अत्यधिक मात्रा में विटामिन ई लेने से स्ट्रोक होने का खतरा हो सकता है!

Read this in English.

अनुवादक: Mousumi Dutta

शायद ये किसी को पता नहीं कि विटामिन और मिनरल लेने से जितना स्वास्थ्य को फायदा पहुँचता है उतना ही इसके अत्यधिक सेवन से नुकसान भी पहुँचता है। सच तो ये है कि लोग अनजाने में ज्यादा फायदा पाने की चाह में बिना डॉक्टर से सलाह लिये विटामिन आदि ले लेने लगते हैं। विशेषकर महिलायें स्किन और हेयर को बेहतर बनाने के लिए अत्यधिक मात्रा में विटामिन डी लेने की गलती कर बैठते हैं। वैसे तो विटामिन ई ज्यादा मात्रा में लेने से सेहत को खास नुकसान नहीं पहुँचता है लेकिन अगर किसी को लाइफस्टाइल डिज़ीज और क्रॉनिक डिज़ीज है तो सावधानी बरतना ज़रूरी होता है।

Also Read

More News

विटामिन ई ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करता है यानि विटामिन में जो एन्टीऑक्सिडेंटिव गुण होता है वह सेल्स को प्रोटेक्ट करने के साथ-साथ फ्री रैडिकल्स से जो सेल्स को नुकसान पहुँचता है उससे रक्षा करता है। ये इम्युनिटी को बेहतर बनाने के साथ हार्ट और लीवर को हेल्दी रखने में मदद करते हैं। अगर विटामिन ई की कमी हो गई है तो आप इसकी पूर्ती डायट या सप्लीमेंट लेकर पूरा कर सकते हैं। डायट के द्वारा विटामिन ई लेने से कुछ ज्यादा नुकसान पहुँचने का खतरा नहीं होता है लेकिन सप्लीमेंट लेने पर इसके मात्रा में ध्यान देने की ज़रूरत होती है।

चलिए जानते हैं कि विटामिन ई के अत्यधिक सेवन से क्या नुकसान पहुँचता है-

इंटरनल ब्लीडिंग का खतरा बढ़ाता है- विटामिन ई का ऐन्टेकोऐग्यलन्ट फैक्टर रक्त का थक्का बनने से रोकता है। ये उन लोगों के लिए नुकसानदेह साबित होता है जिन लोगों कों ब्लड को पतला करने के लिए विटामिन ई लेने की सलाह दी जाती है। अत्यधिक सेवन से इंटरनल ब्लीडिंग होने का खतरा हो सकता है।

स्ट्रोक होने का खतरा- विटामिन ई के अत्यधिक सेवन से ब्रेन हेमरिज यानि रक्त स्राव होने का खतरा हो सकता है।

प्रीमैच्युर डेथ- आप प्रीमैच्युर डेथ के लिए सिर्फ विटामिन ई को दोषी ठहरा नहीं सकते हैं लेकिन ये दूसरे एन्टीऑक्सिडेंट यानि जो बीमारियों के बचाव के लिए लिया जाता है उसके साथ मिलकर खतरे को बढ़ा सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को बढ़ाता है- स्मोकर को लंग्स कैंसर से बचाव के लिए जब विटामिन ई और बीटा कैरोटीन का सप्लीमेंट दिया जाता है तब वह प्रोस्टेट कैंसर होने के खतरा बढ़ा सकता है।

चित्र स्रोत: Shutterstock

संदर्भ-

1: Klein EA, Thompson IM Jr, Tangen CM, Crowley JJ, Lucia MS, Goodman PJ, Minasian LM, Ford LG, Parnes HL, Gaziano JM, Karp DD, Lieber MM, Walther PJ,Klotz L, Parsons JK, Chin JL, Darke AK, Lippman SM, Goodman GE, Meyskens FL Jr,Baker LH. Vitamin E and the risk of prostate cancer: the Selenium and Vitamin E Cancer Prevention Trial (SELECT). JAMA. 2011 Oct 12;306(14):1549-56. doi:10.1001/jama.2011.1437. PubMed PMID: 21990298; PubMed Central PMCID: PMC4169010.

1: Bjelakovic G, Nikolova D, Gluud LL, Simonetti RG, Gluud C. Mortality in randomized trials of antioxidant supplements for primary and secondaryprevention: systematic review and meta-analysis. JAMA. 2007 Feb 28;297(8):842-57.Review. Erratum in: JAMA. 2008 Feb 20;299(7):765-6. PubMed PMID: 17327526.


Total Wellness is now just a click away.

Follow us on