Sign In
  • हिंदी

प्री मैरिटल चेकअप के लिए हॉस्पिटल पहुंचे अर्जुन – मलाइका, जानिए शादी से पहले क्‍यों जरूरी है यह चेकअप

ज्‍यादातर लोगों को लगता है कि शायद प्रीमेरिटल चेकअप में वर्जिनिटी टेस्‍ट जैसा कुछ होता होगा, बल्कि ऐसा कुछ नहीं है, यह आपके सुखद दांपत्‍य जीवन के लिए जरूरी टेस्‍ट हैं। ©Shutterstock.

ज्‍यादातर लोगों को लगता है कि शायद प्रीमेरिटल चेकअप में वर्जिनिटी टेस्‍ट जैसा कुछ होता होगा, बल्कि ऐसा कुछ नहीं है, यह आपके सुखद दांपत्‍य जीवन के लिए जरूरी टेस्‍ट हैं।

Written by Yogita Yadav |Updated : April 18, 2019 11:14 AM IST

बॉलीवुड सेलिब्रिटीज की हर हरकत फॉलो की जाती है पर इसके साथ ही उनका लाइफ स्‍टाइल अपने फैंस के लिए प्रेरणा का स्रोत भी बनता है। हाल ही में अपनी शादी के कारण चर्चाओं में बने हुए अर्जुन कपूर और मलाइका अरोड़ा के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ।

यह भी पढ़ें - ये संकेत बताते हैं कि आपको है इंटीमेट रिलेशनशिप की जरूरत

पहुंचे प्रीमेरिटल चेकअप करवाने

Also Read

More News

अर्जुन कपूर और मलाइका अरोड़ा अपने रिलेशनशिप को लेकर लंबे वक्‍त से चर्चा में हैं। अगर दोनों साथ में आउटिंग के लिए कहीं भी जाते हैं तो वे तुरंत सुर्खियों में आ जाते हैं। हाल ही में दोनों एक हॉस्पिटल पहुंचे जिसके बाद अफवाहों का बाजार गर्म है। अगर रिपोर्ट्स की मानें तो कपल प्री मैरिटल चेकअप के लिए हॉस्पिटल पहुंचा था। कई कपल्‍स के लिए यह एक स्‍टैंडर्ड प्रसीजर है। जो जोड़े शादी करने जा रहे हैं उन्‍हें जरूर जानना चाहिए कि सुखी दांपत्‍य जीवन के लिए यह टेस्‍ट क्‍यों जरूरी है।

यह भी पढ़ें – हेल्‍दी सेक्‍स लाइफ के लिए जरूरी है इन पांच बातों का रखें ध्‍यान

क्‍यों जरूरी है प्रीमेरिटल चेकअप

युवाओं के मन में ये ग़लतफ़हमी है कि इसमें वर्जिनिटी टेस्ट भी शामिल होता है। पर ऐसा कुछ नहीं है। इसका मकसद ये जानना होता है कि शादी करने के लिए आप शारीरिक रूप से कितने तैयार हैं। इसमें कुछ टेस्‍ट शामिल होते हैं, जिन्‍हें मिलाकर पूरा प्रीमेरिटल चेकअप कंप्‍लीट होता है।

यह भी पढ़ें - कहीं आप भी तो नहीं दोहरा रहे ये कॉमन सेक्‍स मिस्‍टेक्‍स ?

बल्ड ग्रुप टेस्ट

अगर लड़का-लड़की दोनों ही एक ही आरएच (RH) फैक्टर के हों, तो बेहतर है। प्रेगनेंसी के समय बच्चे और मां का अलग-अलग Rh फैक्टर होने से मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

इन्फ़र्टिलिटी स्क्रीनिंग (जनन क्षमता)

इससे ज़्यादातर लोग कतराते हैं। उन्हें लगता है कि अगर कुछ कमी हुई, तो उनकी आने वाली ज़िंदगी में मुश्किलें बढ़ जाएंगी। अचानक कुछ पता चले और झटका लगे, उससे अच्छा है कि आप आने वाली परिस्थितियों के लिए पहले से खुद को तैयार रखें। इन्फ़र्टिलिटी स्क्रीनिंग के बारे में भी ये भ्रम है कि ये सिर्फ़ लड़कियों के लिए होता है। जबकि, ये टेस्ट लड़का और लड़की दोनों को ही कराना चाहिए। लड़कियों में Reproductive Hormones जैसे FSH, LH, Prolactin और PCOS की जांच होती है। ये जांच ब्लड टेस्ट और अल्ट्रासाउंड से होती है. वहीं लड़कों को इन्फ़र्टिलिटी स्क्रीनिंग के लिए Sperm Sample देना होता है।

यह भी पढ़ें – आपको जानने चाहिए पार्टनर के वे खास दिन, जब उन्‍हें होती है सेक्‍स की सबसे ज्‍यादा इच्‍छा

एचआइवी/ एड्स

ज़ाहिर है इनका नाम सुन कर ही लोग नज़रें चुराने लगते हैं, लेकिन ये दोनों एक जानलेवा बीमारी हैं। बात जब पूरी ज़िंदगी साथ बिताने की हो, तो बेहतर है कि दोनों साथी सहमति से एक बेहतर जीवन के लिए अपनी जांच करवा लें।

और भी हैं कुछ जरूरी टेस्‍ट

इनके अलावा भी कुछ अन्य बीमारियों की शादी के पहले जांच करा लेना चाहिए। जैसे, हार्ट डिज़ीज़, डायबिटीज़, लिवर, ब्लड-प्रेशर आदि। हालांकि ये बीमारियां कभी भी हो सकती हैं, लेकिन सही वक्त पर पता चल जाने से दोनों साथी एक दूसरे का बेहतर ख़्याल रख पाएंगे।

कपल चेकअप

ये एक-दूसरे के बीच आपसी समझ बढ़ाने के लिए एक मनोवैज्ञानिक टेस्ट है। ये एक ऑनलाइन टेस्ट की तरह है, जिसमें आपको अपने साथी का साथ देना होता है. इससे आपके रिलेशनशिप की पॉजिटिव और निगेटिव बातें पता चलेंगी। ये एक Questionnaire के रूप में होता है। इसे सबमिट करने के कुछ ही मिनट में आपको एक 12-15 पन्नों की रिपोर्ट मिलेगी। इससे अपनी कमियों को समझ कर आप अपने रिश्ते को और बेहतर कर सकते हैं।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on