Advertisement

क्‍या एल्‍युमीनियम के बर्तन भी बढ़ाते हैं अल्‍जाइमर का जोखिम ?  

वंशानुगत कारणों के अलावा वैज्ञानिक इस तथ्‍य पर भी कर रहे हैं शोध।© Shutterstock

वंशानुगत कारणों के अलावा वैज्ञानिक इस तथ्‍य पर भी कर रहे हैं शोध।

अल्‍जाइमर मानसिक बीमारी है जो धीरे-धीरे होती है। इसकी शुरूआत मस्तिष्‍क के स्‍मरण-शक्ति को नियंत्रित करने वाले भाग में होती है और जब यह मस्तिष्‍क के दूसरे हिस्‍से में फैल जाती है तब भावों और व्‍यवहार की क्षमता को प्रभावित करने लगती है। हालांकि अभी तक अल्जाइमर रोग के सही कारण ज्ञात नहीं है लेकिन, शोधकर्ताओं के अनुसार, अल्जाइमर रोग संभवत: आनुवंशिक प्रभाव, जीवन शैली और पर्यावरण कारकों का परिणाम है जोकि समय के साथ मस्तिष्क को प्रभावित करता है।

जेनेटिक/आनुवांशिक कारण

विशिष्ट आनुवंशिक परिवर्तन जो कम से कम 5 प्रतिशत मामलों में रोग के विकास में नेतृत्व करने में मौजूद हैं। अल्जाइमर रोग के साथ अधिकांश लोगों का एक परिवारिक इतिहास की स्थिति नहीं है, लेकिन अल्जाइमर रोग के विकास के जोखिम बढ़ जाते है यदि आपके परिवार का एक सदस्य इससे ग्रस्त है।

Also Read

More News

एल्‍यूि‍मिनियम के बर्तनों का असर 

कुछ सिद्धांतों के अनुसार यह माना गया कि जस्ता या एल्यूमीनियम जैसी धातुएं अल्जाइमर रोग को बढ़ाने में विशेष भूमिका अदा करती हैं। पर अभी तक इस बात की पूरी तरह पुष्टि नहीं की जा सकी है। इसलिए डॉक्‍टर अभी तक मरीजों को आहार में जिंक कम करने या खाना पकाने के लिए एल्यूमीनियम के बर्तनों के इस्‍तेमाल की मनाही नहीं करते हैं। परंतु वे इनके प्रयोग का समर्थन भी नहीं करते हैं।

यह मस्तिष्क विकार  मस्तिष्क की कोशिकाओं को विकृत और नष्ट करता हैं, कम कोशिकाओं के परिणामस्वरूप, और वहाँ एक स्वस्थ मस्तिष्क की तुलना में जीवित कोशिकाओं के बीच कम कनेक्शन भी है।

मस्तिष्क में रासायनिक दूत या न्यूरोट्रांसमीटर के नुकसान के साथ, विशेष रूप से ऐसिटिलकोलाइन है जो मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं के समुचित संचार की सुविधा है। ये सभी शायद अनुभूति, स्मृति और मानसिक प्रक्रिया में लगातार गिरावट के कारण है।

यह भी पढ़ें - डराने वाले  हैं डिमेंशिया के आंकड़ें, पीडि़त लोगों की संख्‍या में भारत तीसरे नंबर पर

अल्‍जाइमर के लक्षण

खुद ही चीजों को रखकर भूलना

एक ही बात को बार बार दोहराना

यह भी पढ़ें - वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे : खुशियों का पता तो नहीं भूल गए आप….

खुद से बात करना

जानी पहचानी जगहों या अपने ही घर में खो जाना

रोजाना के आसान कामों को करने में भी दिक्कत महसूस होना

यह भी पढ़ें – जानें क्‍यों मनाया जाने लगा है विश्व भर में अल्जाइमर दिवस

देर रात को निकल कर घूमना

बात करते वक्त सामने वाले व्यक्ति को घूरना

काम न करने पर भी ऐसा लगना कि वह काम हमने कर दिया है

छोटी छोटी बातों पर चौंक जाना, आदि।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on