Sign In
  • हिंदी

World Arthritis Day 2021 : 5 नेचुरल तरीके से कंट्रोल करें अर्थराइटिस, दर्द और दवा के बिना मिलेगी राहत

5 नेचुरल तरीके से कंट्रोल करें अर्थराइटिस, दर्द और दवा के बिना मिलेगी राहत

अर्थराइटिस से राहत पाने के लिए एक्यूपंक्चर, मालिश या एक्सरसाइज सहित किसी भी प्राकृतिक तरीके को अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से कंसल्ट कर लें।

Written by Jitendra Gupta |Published : October 12, 2021 3:54 PM IST

अर्थराइटिस भारत में होने वाली नॉन-कम्युनिकेबल बीमारियों में से एक है, यह एक ऑटो-इम्यून वाली बीमारी है जो हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है और हमारे जोड़ों (जॉइंट्स) पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। यह न केवल जोड़ों को बल्कि जोड़ों के आसपास के टिश्यू और अन्य संयोजी टिश्यू को भी प्रभावित करता है। अगर अर्थराइटिस का इलाज लम्बे समय तक न कराया जाए तो यह विशेष रूप से वृद्ध लोगों की जिंदगी को ख़राब कर सकता है। अर्थराइटिस का इलाज करते समय मेडिकल केयर लेने के साथ-साथ कुछ प्राकृतिक तरीकों का पालन करने से दर्द को कम और गतिशीलता को बनाये रखा जा सकता है। लेकिन यह जरूरी है कि अर्थराइटिस से राहत पाने के लिए एक्यूपंक्चर, मालिश या एक्सरसाइज सहित किसी भी प्राकृतिक तरीके को अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से कंसल्ट कर लें।

मोबिलाइज़िंग और स्ट्रेचिंग

अर्थराइटिस आपके जोड़ों को सख्त और मांसपेशियों को कमजोर बनाता है। यह आपके रोजमर्रा के कामों को प्रभावित कर सकता है। एक फिजियोथेरेपिस्ट की मदद से कोई भी व्यक्ति अपनी मांसपेशियों की ताकत की जांच कर सकता है या परख सकता है, और अपने जोड़ों में गति सीमा में सुधार कर सकता है, और जोड़ों को अच्छी तरह से काम करने के लिए एक्सरसाइज कर सकता है। आपको हाइड्रोथेरेपी पूल में एक्सरसाइज करने के लिए कहा जा सकता है। इस तरह की थेरेपी में गर्म पानी भरा होता है, जो आपके जोड़ों को आराम पहुंचाता है। पानी आपके वजन को सपोर्ट करता है और आपके लिए आपके जोड़ों को हिलाने और अपनी मांसपेशियों पर ज्यादा दबाव डाले बिना एक्सरसाइज करना आसान बनाता है।

एंटी-इन्फ्लेमेटरी खानपान

खानपान सूजन से लड़ने और जोड़ों के लक्षणों में सुधार करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कई रिसर्च में एंटी इन्फ्लेमेटरी खानपान में नट्स के सेवन की पुष्टि की गयी है। इससे वजन भी घटता हैं क्योंकि इनमे मौजूद फाइबर, प्रोटीन और सूजन से लड़ने वाले मोनोअनसैचुरेटेड फैट संतृप्त होते हैं। इसलिए अपने खानपान में मौसमी फल और हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करना जरूरी है क्योंकि वे एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं। चेरी, स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, रास्पबेरी और ब्लैकबेरी में एंथोसायनिन होते हैं, इनमें सूजन को कम करने का गुण होता हैं। अपने खानपान में विटामिन सी को भी शामिल करना चाहिए क्योंकि यह जोड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है, इससे सूजन को भी होने से रोका जा सकता है।

Also Read

More News

एल्गैमिन ट्राई करें

अर्थराइटिस के दर्द से निपटने के लिए आज तक अभी तक कोई दवा उपलब्ध नहीं हो पायी है। जो भी इलाज या उपाय उपलब्ध हो पाया है वह या तो घुटने का रिप्लेसमेंट है या दर्द निवारक हैं, और इन दोनों चीजों का मानव के स्वास्थ्य पर कई नुकसानग्रस्त प्रभाव पड़ता हैं। हालांकि एल्गैमिन अर्थरायटिस सहित विभिन्न प्रकार की लाइफस्टाइल संबंधी बीमारियों के लिए सीवीड्स आधारित प्राकृतिक उपचार है। यह 100% प्राकृतिक बायोएक्टिव अवयवों से समृद्ध होता है। एल्गैमिन को सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा रिसर्च करके विकसित और इंजीनियर किया गया है। यह आयोडीन, जिंक और अन्य आवश्यक विटामिन और मिनिरल्स / प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध होता है। इसे दी लाइफकार्ट.इन से खरीदा जा सकता है।

दर्द निवारक इलाज

यह दवा के प्रभाव को काफी बढ़ा सकता है और राहत प्रदान कर सकता है। व्यक्ति कुछ चीजों से इन दर्द निवारक दवाओं को खा सकता है। आइस पैक गर्म और सूजे हुए जोड़ों को आराम प्रदान करने में मदद करते हैं, और हीट पैक तनावग्रस्त और थकी हुई मांसपेशियों को आराम देने में मदद करते हैं। ट्रांसक्यूटेनियस इलेक्ट्रिकल नर्व स्टिमुलेशन भी रुमेटीइड अर्थरायटिस के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले इलाजों में से एक है। अध्ययनों से पता चला है कि नियमित इलेक्ट्रोथेरेपी प्राप्त करने के बाद मरीजों को कम दर्द का अनुभव होता है।

फिटनेस में सुधार

अगर आपको अर्थरायटिस है तो शारीरिक रूप से एक्टिव (सक्रिय) रहना महत्वपूर्ण है। मरीज अक्सर सोचते हैं कि एक्सरसाइज से उनका दर्द और बढ़ जाएगा और उनके जोड़ों को ज्यादा नुकसान होगा। हालांकि जोड़ों को हिलने-डुलने के काबिल बनाया जाना चाहिए है और अगर आप इन जोड़ों की एक्सरसाइज नहीं करते हैं तो उनके आस-पास की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। इससे जॉइंट्स (जोड़) इधर-उधर खिसक सकते है, जो आपकी गतिशीलता को और कम कर देते है। एक्सरसाइज आपके फिटनेस लेवल को बढ़ाता है, आपको वजन कम करने में मदद करता है, सामान्य चाल-चलनमें सुधार करता है, और आपको ज्यादा आत्मविश्वासी बनाता है।

(इनपुट: दी लाइफकार्ट.इन के सीनियर कंसल्टेंट, डॉ. प्रवीण जैकब)

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on