• हिंदी

Hara saag khane ke nuksan: आप भी सर्दियों में खूब खाते हैं हरा साग, तो जान लें इससे होने वाले नुकसान

Hara saag khane ke nuksan: आप भी सर्दियों में खूब खाते हैं हरा साग, तो जान लें इससे होने वाले नुकसान

Side effects of eating hara saag: हरे साग का सेवन करना आपके लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है, लेकिन जरूरत से ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करना सेहत के लिए नुकसानदायक भी हो सकता है।

Written by Mukesh Sharma |Published : December 7, 2023 11:01 AM IST

सर्दियों का मौसम अपने साथ अलग-अलग प्रकार के डाइट ऑप्शन लेकर आता है, जो वास्तव में हेल्दी भी होते हैं। हरा साग भी उनमें से एक है, जो पूरी तरह से हरी पत्तेदार सब्जियों से बना होता है, जिनमें से ज्यादातर सर्दियों में ही मिलती है। पालक, बथुआ और हरी सरसों से बना हरा साग सर्दियों में लोगों को बहुत अच्छा लगता है और कुछ लोग रोज खाकर भी इससे बोर नहीं होते हैं। लेकिन आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि कोई भी चीज अधिक सही नहीं होती है। अगर आप ज्यादा मात्रा में हरे साग का सेवन कर रहे हैं, तो यह सिर्फ फायदे ही नहीं बल्कि आपकी बॉडी को कुछ नुकसान भी पहुंचा सकता है। हरा साग खाने से सेहत को मिलने वाले फायदों के बारे में तो आप जानते ही होंगे लेकिन हम आपको ज्यादा हरा साग खाने से शरीर को क्या नुकसान हो सकते हैं इस बारे में इस लेख में बताएंगे।

1. कैल्शियम की कमी

हरे साग में पालक मुख्य रूप से डाला जाता है और पालक में एक ऐसा तत्व है, जो शरीर के कैल्शियम अवशोषित करने की क्षमता को प्रभावित कर देता है। खासतौर पर जिन लोगों के शरीर में पहले से ही कैल्शियम कम है या फिर जिन्हें हड्डियों से जुड़ा कोई रोग है, जैसे ऑस्टियोपोरोसिस, ओस्टियोआर्थराइटिस, आर्थराइटिस या रूमेटाइड आर्थराइटिस आदि उन्हें ज्यादा मात्रा में हरे साग का सेवन नहीं करना चाहिए।

2. दस्त की समस्या

हरे साग में मौजूद बथुआ का ज्यादा सेवन दस्त की समस्या पैदा कर देता है। वहीं हरे साग में मौजूद पालक व हरी सरसों में मौजूद खास तरह का फाइबर जो पचने में कई बार जरूरत से ज्यादा समय ले लेता है और इस कारण जिसके दस्त की समस्या हो जाती है। हालांकि, ऐसी समस्या सिर्फ उन्हीं लोगों को होती है जो ज्यादा मात्रा में या फिर दिन में तीनों समय हरा साग खा रहे हैं।

Also Read

More News

3. खराब पाचन

ज्यादा मात्रा में हरे साग का सेवन करना पाचन क्रिया को भी नुकसान पहुंचा सकता है और इस बारे में कम ही लोग जान पाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि हरे साग का सेवन करना पाचन क्रिया में सुधार करने में मदद करता है और जो लोग ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करते हैं उन्हें पाचन से जुड़ी समस्याएं होने लगती हैं, क्योंकि इसमें ज्यादा मात्रा में फाइबर होता है जो कई बार पेट में गैस व अन्य समस्याएं पैदा कर सकता है।

सही मात्रा का होना जरूरी

हालांकि, यदि हरे साग का सही मात्रा में सेवन किया जाए तो यह आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद रहता है। अगर आपको स्वास्थ्य से जुड़ी किसी प्रकार की समस्या नहीं हैं वे दिन में एक या दो बार हरा साग खा सकते हैं। वहीं जिन लोगों को हड्डियों से जुड़ी किसी प्रकार की समस्या है, वे रोजाना यह खाने की बजाय हफ्ते में दो से तीन बार हरा साग खा सकते हैं।