• हिंदी

कामकाजी महिलाओं में इन 5 न्यूट्रिएंट्स की कमी बना सकती है बीमार! जानें कौन से पोषक तत्व हैं आपकी डेली जरूरत

कामकाजी महिलाओं में इन 5 न्यूट्रिएंट्स की कमी बना सकती है बीमार! जानें कौन से पोषक तत्व हैं आपकी डेली जरूरत
कामकाजी महिलाओं में इन 5 न्यूट्रिएंट्स की कमी बना सकती है बीमार! जानें कौन से पोषक तत्व हैं आपकी डेली जरूरत

शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के साथ-साथ कई स्वास्थ्य स्थितियों में महिलाओं को एनीमिया से लेकर हड्डियों के कमजोर होने और ऑस्टोपोरोसिस का खतरा रहता है।

Written by Jitendra Gupta |Updated : August 4, 2023 12:45 PM IST

आज के आधुनिक युग में महिलाएं एक मल्टी-टास्कर से कम नहीं है और इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में हर एक महिला के लिए हेल्दी डाइट फॉलो कर पाना मुश्किल हो गया है। शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के साथ-साथ मासिक धर्म चक्र, बच्चों को बड़ा करना और मेनोपॉज जैसी स्थितियों में महिलाओं को एनीमिया से लेकर हड्डियों के कमजोर होने और ऑस्टोपोरोसिस का खतरा रहता है। इसलिए जरूरी होता है कि आप कैल्शियम, आयरन, विटामिन्स जैसे पोषक तत्वों को अपनी डाइट में शामिल करें। आइए जानते हैं कामकाजी महिलाओं के लिए ऐसे 5 न्यूट्रिएंट्स के बारे में, जो उन्हें मजबूती प्रदान कर सकते हैं और हर काम को पूरा करने की शक्ति प्रदान करते हैं।

1-कार्बोहाइड्रेट

आपको अपनी डाइट में कॉम्पलेक्स कार्बजैसे होल ग्रेन सीरियल्स, बाजरा, रागी, ज्वार, जैसी चीजों का इनटेक बढ़ाना चाहिए। कार्ब आपको एनर्जी देने का काम करता है और आपको फिट बनाने का भी काम करता है।

2-प्रोटीन

आपको अपना मेटाबॉलिक रेट और कैलोरी बर्न करने की क्षमता बढ़ाने के लिए प्रोटीन इनटेक को बढ़ाने की जरूरत है। प्रोटीन एक जरूरी मैक्रोन्यूट्रिएंट है, जो हमारी मांसपेशियों के साथ-साथ स्किन, हड्डियों, बाल और बॉडी टिश्यू के लिए बहुत जरूरी है। आपको अपने वजन के हिसाब से 1 ग्राम प्रति किलो प्रोटीन की जरूरत होती है।

3-ओमेगा-3 फैटी एसिड

ओमेगा-3 फैटी एसिड पोलीअनसैच्यूरेटेड फैटी एसिड का एक समूह है, जो हमारे शरीर के जरूरी कार्यों के लिए काम आता है। अल्फा लिनोलिक एसिड, आंखों, नर्व और मेंबरेन डेवलपमेंट के लिए जरूरी होता है। वहीं डीएचए प्रोस्टाग्लैंडाइनस के उत्पादन के लिए जरूरी होता है। ये एक ऐसा हार्मोन है, जो आमतौर पर ब्लड प्रेशर, इंफ्लेमेशन, न्यूरो फंक्शन, हार्मोन प्रोडक्शन जैसी चीजों में काम आता है।

4-विटामिन डी

विटामिन डी, हड्डियों के मेटाबॉलिज्म, मांसपेशियों को मजबूत बनाने और उनके काम करने की क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करता है। विटामिन डी कैल्शियम के अवशोषण में भी मदद करता है। विटामिन डी का लो लेवल हार्ट अटैक के खतरे को बढ़ाने का काम करता है। इतना ही नहीं इसकी कमी हार्ट फेल्योर, स्ट्रोक, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर के खतरे को भी बढ़ाती है।

5-आयरन

जब आपके शरीर में पर्याप्त आयरन नहीं होता है तो आपके रक्त में हेल्दी लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होने लगती है। ये लाल रक्त कोशिकाएं ऑक्सीजन को बॉडी टिश्यू तक पहुंचाने का काम करती हैं। इसकी कमी की वजह से टिश्यू नष्ट होने लगते हैं। आयरन की कमी के कुछ आम लक्षणों में शामिल हैं थकान, सांस लेने में दिक्कत, दिल की अनियमित धड़कन और रंग का पीलापन।