Advertisement

Grapefruit: वेट लॉस और डायबिटीज़ मैनेजमेंट के लिए खाना चाहिए चकोतरा, जानें ग्रेपफ्रूट खाने के 3 बेमिसाल फायदे और 3 नुकसान

चकोतरा में, विटामिन ए और विटामिन सी होता है। इस फल में पानी की मात्रा अधिक होती है। इसीलिए, इसे एक हेल्दी स्नैक के तौर पर भी खाया जा सकता है। कुछ  स्टडीज़ में चकोतरा को  दिल, लिवर और किडनी की बीमारियों के लक्षणों को कम करने वाला फल भी बताया गया है।

Grapefruit health benefits: चकोतरा या ग्रेपफ्रूट (Grapefruit) एक लो-कैलोरी फूड को डायबिटीज से लेकर दिल की बीमारियों तक के मरीज खाना पसंद करते हैं। दरअसल,  इसमें विटामिन ए और विटामिन सी होता है। इसके अलावा लो कैलोरी और लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला फल है। साथ ही इस फल में पानी की मात्रा अधिक होती है जो कि शरीर में हाइड्रेशन बहाल करने के साथ स्किन में ग्लो लाने में भी मदद करता है। इसीलिए, इसे आप किसी भी मौसम में खा सकते हैं। साथ ही कुछ  स्टडीज़ में चकोतरा को (Grapefruit health benefits in hindi)  दिल, लिवर और किडनी की बीमारियों के लक्षणों को कम करने वाला फल भी बताते हैं और इसलिए सेहत के लिए बेहद ही लाभकारी है। तो, आइए जानते हैं चकोतरा खाने के फायदे और नुकसान।

चकोतरा खाने से होते हैं ये बेमिसाल फायदे (Grapefruit health benefits):

1. वेट लॉस में मददगार

अगर, आप वेट लॉस करने की कोशिश कर रहे हैं। तो रोज़ाना ग्रेपफ्रूट या चकोतरा का जूस (Grapefruit health benefits) पीएं। इससे, वेट लॉस तेज़ी से होगा। कुछ ,स्डीज़ में दावा किया गया है कि ग्रेपफ्रूट के सेवन से महीने में आधा किलो तक वजन आसानी से और हेल्दी तरीके से कम हो सकता है।

2. पोषक तत्वों से है भरपूर

जैसा कि, चकोतरा में विटामिन सी , मैग्नीशियम, पोटैशियम और डायटरी फाइबर होता है। इसीलिए, इसके सेवन से अच्छी मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। जिससे, शरीर को फायदा होता है।

Also Read

More News

3. ब्लड शुगर को संतुलित रखता है

टाइप 2 डायबिटीज़ वाले लोगों को ग्रेपफ्रूट का सेवन करने से फायदा होता है। कुछ स्टडीज़ में कहा गया है कि ग्रेपफ्रूट या चकोतरा खाने स ब्लड शुगर लेवल कम रहता है और इससे इंसुलिन रेजिस्टेंस की समस्या भी कंट्रोल होती है।

बहुत अधिक मात्रा में ना खाएं चकोतरा, हो सकते हैं ये साइड-इफेक्ट्स- (Grapefruit Sideeffects)

  • बहुत अधिक चकोतरा खाने से डायरिया हो सकता है। इससे, पेट बिगड़ने जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं।
  • इसमें, विटामिन सी की मात्रा अधिक होने के कारण दवाइयों के साथ चकोतरा का सेवन करने से दवाइयों को काम करने में परेशानी हो सकती है।
  • बर्थ कंट्रोल या प्रेगनेंसी के दौरान खायी जाने वाली दवाइयों का प्रभाव भी चकोतरा जैसे फलों के सेवन से कम हो जाता है। इसीलिए, प्रेगनेंसी के दौरान डॉक्टर की सलाह लेकर निश्चित मात्रा में ही चकोतरा खाना चाहिए।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on