Advertisement

Beetroot for Diabetes: डायबिटीज़ में भी खा सकते हैं चुकंदर या बीटरूट, जानें क्यों

चुकंदर : एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर चुकंदर ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। इसमें नाइट्रेट भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो नाइट्रिक ऑक्साइड नामक गैस का निर्माण करता है और यह गैस रक्त वाहिकाओं को आराम देने में मददगार होती है। ब्लड फ्लो को सुधारने के साथ-साथ चुकंदर ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करता है।

टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों की संख्या में भारतीयों की एक बड़ी तादाद शामिल है। जिसकी वजह अनहेल्दी डायट और कसरत ना करने की आदत है। हेल्दी फूड का चयन ही डायबिटीज़ के बेहतर कंट्रोल में मदद कर सकता है, और चुकंदर ऐसा ही एक हेल्दी फूड है जो डायबिटीज़ के मरीज़ों को अपनी डायट में ज़रूर शामिल करना चाहिए।

बीटरूट ( Beetroot) या चुकंदर हेल्दी फूड माना जाका है। डायबिटीज़ या हाई ब्लड शुगर ( Beetroot for diabetes) की समस्या से अगर आप या आपके आसपास कोई और प्रभावित है तो आप समझ सकते हैं कि डायबिटीज़ के साथ जीना किसी के लिए भी कितना मुश्किल हो सकता है। टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों की संख्या में भारतीयों की एक बड़ी तादाद शामिल है। जिसकी वजह अनहेल्दी डायट और कसरत ना करने की आदत है। इसके अलावा मोटापा भी टाइप टू डायबिटीज़ की एक वजह है। हेल्दी फूड का चयन ( Beetroot for diabetes) ही डायबिटीज़ के बेहतर कंट्रोल में मदद कर सकता है, और चुकंदर ऐसा ही एक हेल्दी फूड है जो डायबिटीज़ के मरीज़ों को अपनी डायट में ज़रूर शामिल करना चाहिए।( Beetroot for diabetes)

क्यों चुकंदर है डायबिटिक्स-फ्रेंडली फूड:

ग्लाइसेमिक इंडेक्स ही वह पैमाना है जिसके आधार पर डायबिटीज़ में लोग अपने भोजन का चुनाव करते हैं। हालांकि बीटरूट या चुकंदर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स हाई है या सीधे शब्दों में कहें तो इसमें नैचुरल शुगर की मात्रा अधिक है। लेकिन चुकंदर का सेवन अगर सही मात्रा में सावधानी से किया जाए, तो डायबिटिक्स के लिए यह बहुत फायदेमंद साबित होता है।

फाइबर से भरपूर है चुकंदर:

  • फाइबर, पोटैशियम और फोलेट का अच्छा स्रोत है चुकंदर या बीटरूट, जो कि डायबिटिक्स के लिए अहम और ज़रूरी पोषक तत्व हैं।
  • लाल चुकंदर की सब्ज़ी का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 64 है, जो कि बहुत कम नहीं माना जा सकता । लेकिन जब चुकंदर का सेवन कोई करता है तो उसके रक्त में ग्लूकोज़ बहुत तेज़ी से रीलीज़ नहीं होता और इसीलिए ब्लड शुगर लेवल भी बहुत तेज़ी से नहीं बढ़ता।

इन सब फायदों के बावजूद इस बात से नकारा नहीं जा सकता है कि बीटरूट में मौजूद  नैचुरल शुगर का स्तर ज़्यादा है। इसीलिए अगर आपका ब्लड शुुगर लेवल कंट्रोल में नहीं रहता या बहुत हाई है तो बीटरूट के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें।

Also Read

More News

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on