Advertisement

सबसे लोकप्रिय शाकाहारियों में से एक हैं अमिताभ बच्चन, जानें शाकाहार के फायदे

केवल 25 फीसदी सेहतमंद लीवर के बावजूद बिग बी यानी अमिताभ बच्‍चन सक्रिय, सकारात्‍मक और प्रेरक जीवन बिता रहे हैं। इसका श्रेय वे शाकाहार को देते हैं।

आज यानी 11 अक्‍टूबर को बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्‍चन का जन्‍मदिन है। अमिताभ यानी बिग बी सिर्फ अभिनेता ही नहीं है बल्कि लीविंग लीजेंड हैं। उन्‍होंने कई ऐसे उदाहरण सेट किए जिन्‍हें लोग पूरे मनोयोग से फॉलो करते हैं। ऐसा ही है स्‍मोकिंग, एल्‍कोहल और मांसाहार को पूरी तरह छोड़कर उनका शाकाहार की ओर लौटना। वे इसके कारण और फायदे दोनों गिनाते हैं। आइए जानते हैं सेहत के लिए क्‍यों फायदेमंद है शाकाहार।

अस्‍वस्‍थ लीवर के बावजूद स्‍वस्‍थ हैं बिग बी

यह बात जानकर बहुत से लोग हैरान होते हैं, पर यह पूरी तरह सच है। अमिताभ बच्‍चन का लीवर 75 फीसदी खराब हो चुका है। इसके बावजूद वे स्‍वस्‍थ जीवन व्‍यतीत कर रहे हैं। इसका श्रेय उनकी जीजिविषा और सख्‍त फि‍टनेस एवं डाइट रूटीन को ही दिया जा सकता है। उनका केवल 25 फीसदी लीवर ही स्‍वस्‍थ है। वे मानते हैं कि शाकाहार ने उन्‍हें स्‍वस्‍थ रखने में बहुत मदद की है।

प्‍योर वेजिटेरियन हैं अमिताभ बच्‍चन

इतनी सारी बीमारियों का सामना करने के बावजूद अमिताभ बच्‍चन अगर अब भी अपनी उम्र को मात देते हैं तो इसकी वजह उनका प्‍योर वेजिटेरियन होना है। अमिताभ पहले नॉन वेज फूड, अल्‍कोहल, चाय-कॉफी आदि का भी सेवन किया करते थे। पर कई सालों पहले उन्‍होंने इन सभी चीजों को अलविदा कह दिया। अब वे पूरी तरह शाकाहार का सेवन करते हैं और उसे फॉलो करने की सिफारिश भी करते हैं।

Also Read

More News

बहुत फायदेमंद हैं शाकाहार

पाचन है आसान

शाकाहारी भोजन मांसाहारी भोजन की तुलना में पचाना ज्‍यादा आसान होता है। इसके बारे में भले ही यह प्रचार किया जाता है कि इसमें मांसाहार के मुकाबले कम पोषक तत्‍व होते हैं, जबकि यह सच नहीं है। शाकाहार में भी सभी पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं, पर अपनी प्राकृतिक अवस्‍था में। इन्‍हें शरीर को स्‍वयं तैयार करना पड़ता है। जबकि मांसाहार में ये पोषक तत्‍व तैयार मिलते हैं, लेकिन इन्‍हें पचाने के लिए लीवर को अतिरिक्‍त मेहनत करनी पड़ती है।

कम होता है बैड कोलेस्‍ट्रॉल

शाकाहार भोजन में हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को नुकसान पहुंचाने वाला बैड कोलेस्‍ट्रॉल बहुत कम मात्रा में उपस्थित होता है। बल्कि अगर उन्‍हें डीप फ्राई न किया जाए अतिरिक्‍त वसा न एड की जाए तो उसमें यह बैड कोलेस्‍ट्रॉल होता ही नहीं है। जो आपकी कार्डियोवास्‍कुलर हेल्‍थ के लिए काफी फायदेमंद होता है।

संतुलित रहता है रक्‍तचाप

शाकाहारी लोगों को ब्‍लड प्रेशर यानी रक्‍त चाप संबंधी बीमारियां बहुत कम होती हैं। शाक, सब्‍जी, फल और दालों में ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने की क्षमता होती है। शाकाहारी भोजन में कॉम्‍प्‍लेक्‍स कार्बोहाइड्रेट की मात्रा ज्‍यादा होती है।

कम बढ़ता है वजन

अगर आप वजन घटाना चाह रहे हैं तो मांसाहार यानी नॉन वेज को छोड़ देना एक बेहतर ऑप्‍शन हो सकता है। वेजिटेरियन फूड के साथ आपके लिए वेट मैनेज करना ज्‍यादा आसान होता है। फल, सब्‍जी, सलाद, सूप आदि वेट कंट्रोल करने के हेल्‍दी ऑप्‍शन हैं।

कम होती है ब्रेस्‍ट कैंसर संभावना

हाल ही में हुए शोध बताते हैं कि रेड मीट ब्रेस्‍ट कैंसर को बढ़ाने वाला एक बड़ा कारण है। इसलिए महिलाओं को इस जोखिम को कम करने के लिए रेड मीट छोड़ने की भी सिफारिश की जाती है। जबकि शाकाहारी यानी वेजिटेरियन फूड में ऐसा कोई भी जोखिम सामने नहीं आया है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on