Advertisement

डायबिटीज की बीमारी एक नहीं पांच अलग-अलग तरह की परेशानी है

क्या आप जानते हैं डायबिटीज के बारे में ये बातें ? ©Shutterstock

वैज्ञानिकों ने यह भी माना था कि इनके इलाज भी अलग-अलग होना चाहिए।

क्या आप जानते हैं डायबिटीज की बीमारी एक तरह की परेशानी नहीं है ? ज्यादातर लोग इसके बारे में यही जानते हैं कि यह दो तरह की होती है एक तो टाइप-1 और एक टाइप-2 जो की डायबिटीज के प्रचलित रूप हैं।

डायबिटीज की बीमारी के बारे में हुए एक शोध में वैज्ञानिकों ने दावा किया था की डायबिटीज एक या दो तरह की बीमारी नहीं है असल में यह पांच अलग-अलग बीमारियों का रूप है। वैज्ञानिकों ने यह भी माना था कि इनके इलाज भी अलग-अलग होना चाहिए।

पांच प्रकार का डायबिटीज

Also Read

More News

टाइप-1 प्रकार के डायबिटीज का असर इंसान की प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम) पर पड़ता है. यह सीधा शरीर की इंसुलिन फैक्ट्री (बेटा-सेल) पर हमला करता है जिस वजह से हमारा शरीर शुगर की मात्रा नियंत्रित करने के लिए हार्मोन पर्याप्त मात्रा में नहीं बना पाता।

टाइप 2 प्रकार के डायबिटीज का कारण आमतौर पर गलत जीवनशैली होता है जिसमें शरीर में फैट बढ़ने लगता है और वह इंसुलिन पर असर दिखाता है।

ये भी पढ़ेंः टाइप 2 डायबिटीज से रहना है दूर तो डायट में शामिल करें ये 5 सुपर फूड।

स्वीडन के ल्युंड यूनिवर्सिटी डायबटीज सेंटर और फ़िनलैंड के इंस्टिट्यूट फॉर मॉलिक्यूलर मेडिसिन ने 14,775 मधुमेह के मरीजों के खून की जांच कर अपने नतीजे दिखाए हैं।

यह नतीजे लैंसेट डायबिटीज़ एंड एंटोक्रिनोलोजी में प्रकाशित हुए हैं, इसमें बताया गया है कि मधुमेह के मरीज को पांच अलग-अलग क्लस्टर में बांटा जा सकता है।

ये भी पढे़ेंः 5 विटामिन जो डायबिटीज को मैनेज करने में होते हैं मददगार।

क्लस्टर 1- गंभीर प्रकार का ऑटो इम्यून मधुमेह मोटे तौर पर टाइप-1 मधुमेह जैसा ही है, इसका असर युवा उम्र में देखने को मिलता है, जब वे स्वस्थ होते हैं और फिर ये उनके शरीर में इंसुलिन बनाने की मात्रा कम करने लगता है।

क्लस्टर 2- गंभीर प्रकार से इंसुलिन की कमी वाले मधुमेह को शुरुआती दौर में समूह-1 की तरह ही देखा जाता है, इसके पीड़ित युवा होते हैं, उनका वजन भी ठीक रहता है लेकिन वे इंसुलिन बनाने की क्षमता कम होती जाती है और उनका इम्यून सिस्टम सही तरीके से काम नहीं कर रहा होता।

ये भी पढ़ेंः डायबिटीज से जुड़ी पांच गलत बातें जिसे लोग सच मानते हैं।

क्लस्टर 3 - गंभीर रूप से इंसुलिन प्रतिरोधी मधुमेह के शिकार मरीज का वजन बढ़ा हुआ होता है, उनके शरीर में इंसुलिन बन तो रहा होता है, लेकिन शरीर पर उसका असर नहीं दिखता।

क्लस्टर 4- हल्के मोटापे से जुड़े मधुमेह से पीड़ित लोग आमतौर पर भारी वजन के होते हैं, लेकिन उनकी पाचन क्षमता क्लस्टर 3 वालों के जैसे ही होती है।

ये भी पढ़ेंः इन फलों में होती है शुगर की अधिक मात्रा, डायबिटीज के मरीजों को करना चाहिए परहेज।

क्लस्टर 5- उम्र से जुड़े मधुमेह के मरीजों में आमतौर पर अपनी ही उम्र के बाकी लोगों से थोड़े ज़्यादा उम्रदराज़ दिखने लगते हैं।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on