Sign In
  • हिंदी

डायबिटीज रोगियों में त्वचा का संक्रमण या घाव का रहता है खतरा, बरतें ये सावधानियां

डायबिटीज रोगी ऐसे करें त्वचा की देखभाल। ©Shutterstock

डायबिटीज के मरीजों को चोट लगने से परहेज करना चाहिए अन्यथा घाव जल्दी ठीक नहीं होता है और कई बार तो पस बनने लगती है और इंसान के अंग को काटना पढ़ता है।

Written by akhilesh dwivedi |Updated : November 13, 2018 12:24 PM IST

डायबिटीज की बीमारी इंसान को कई तरह से परेशान करती है। डायबिटीज की बीमारी से कई और रोगों और परेशानियों का खतरा बढ़ जाता है। जिनको डायबिटीज की परेशानी होती है उनमें स्किन का संक्रमण होने का खतरा बहुत ज्यादा होता है। डायबिटीज के मरीजों को चोट लगने से परहेज करना चाहिए अन्यथा घाव जल्दी ठीक नहीं होता है और कई बार तो पस बनने लगती है और इंसान के अंग को काटना पढ़ता है। इसके अलवा डायबिटीज के मरीज को जब चोट लगती है तो खून का बहना भी जल्द बंद नहीं होता है कई बार बहुत ज्यादा खून बह जाने से इंसान की जान चली जाती है। आइए जानते डायबिटीज के मरीज  को होने वाले त्वचा संक्रमण के बारे 5 महत्वपूर्ण बातें।

डायबिटीज मरीज त्वचा का अधिक ख्याल क्यों रखें ? यह सवाल हर किसी के दिमाग में आता है की डायबिटीज के मरीजों के स्किन का ख्याल ज्यादा रखने की क्यों जरूरत है ? इसका मुख्य कारण यह होता है कि डायबिटीज के मरीजों में शुगर का लेवल ज्यादा होता है इसकी वजह से कीटाणु फैलने और फंगल इंफेक्शन होने का खतरा बहुत ज्यादा होता है। डायबिटीज रोगी की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बहुत कम होती है जिसकी वजह से कोई परेशानी होने पर वह जल्दी ठीक नहीं होती है और संक्रमण बढ़ने लगता है।

त्वचा में खुजली और घाव की होती है ज्यादा संभावनाः जी डायबिटीज के मरीजों में यह समस्या सबसे ज्यादा होती है। त्वचा में रूखापन और खुजली की वजह से घान बनने की संभावना बहुत ज्यादा होती है। डायबिटीज रोगियों को उंगलियों के बीच में, घुटनों के पीछे वाले हिस्से में और अंडरऑम्‍स में नमी के अधिक होने से मधुमेह रोगियों में त्वचा संक्रमण फैल सकता है, ऐसे में आपको त्वचा को सूखा नही रखना चाहिए बल्कि इन जगहों पर खासतौर से मालिश करनी चाहिए। इसके साथ ही आप ऐसी जगहों पर बिल्कुल भी खुजली ना करें। इससे कीटाणुओं के फैलने और घाव बढ़ने की आशंका अधिक रहती है।

Also Read

More News

डायबिटीज रोगी कैसे करें त्वचा की देखभाल ? मधुमेह रोगियों को घाव ना हो इसके लिए उन्हें नमीयुक्त साबुन का इस्तेमाल नहाने के दौरान और हाथ धोने के समय करना चाहिए। इसके अलावा प्रतिदिन गुनगुने पानी से नहाकर शरीर पर तेल की मालिश करनी चाहिए जिससे त्वचा में नमी बरकरार रहें और खुजली ना हो। जब भी त्वचा में शुष्कता दिखाई पड़े वहां खुजली ना करें बल्कि इसके बजाय माश्चराइजिंग क्रीम या लोशन लगाएं।

संक्रमण से बचावः डायबिटीज रोगियों को घाव को फैलने से रोकने के लिए उसके उपचार के तहत एंटीबॉयोटिक साबुन का इस्तेमाल करना चाहिए और गर्म पानी से घाव को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए। इसके साथ ही जख्म बनने से पहले ही डॉक्टर की सलाह पर एंटीबॉयोटिक क्रीम या अन्य उत्पादों का उपयोग करें।

तरल पदार्थ का करे सेवनः डायबिटीज रोगियों को घाव ना हो, इसके लिए आपको तरल पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए। फाइबरयुक्त और रेशेदार चीजों का सेवन करना चाहिए। दिनभर में 3 से 4 लीटर पानी पीना चाहिए।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on