Sign In
  • हिंदी

Ankita Konwar On Depression: मिलिंद सोमन की पत्नी अंकिता कोंवर ने लड़ी है डिप्रेशन से लम्बी लड़ाई, बताया किस तरह बन रही है वह मेंटली स्ट्रॉन्ग

फिटनेस आइकॉन मिलिंद सोमन की पत्नी और मॉडल अंकिता कोंवर ने इस बात का खुलासा किया कि वे डिप्रेशन में हैं। (Ankita Konwar On Depression)

Written by Sadhna Tiwari |Updated : December 25, 2021 12:04 AM IST

Ankita Konwar On Depression: डिप्रेशन एक ऐसी मानसिक स्थिति है जो अब हर आयु वर्ग के लोगों में तेजी से बढ़ रही है। खासतौर पर कोरोना वायरस महामारी के दौरान  लोगों को विभिन्न कारणों से बहुत अधिक मानसिक दबाव, तनाव और डिप्रेशन जैसी मेंटल हेल्थ से जुड़ी समस्याओं से गुजरना पड़ा। वहीं, बॉलीवुड इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने भी समय-समय पर डिप्रेशन में होने की बात स्वीकार की है। दीपिका पादुकोण से लेकर आमिर खान की बेटा इरा खान जैसे कई सेलेब्स ने डिप्रेशन से जुड़े अपने अनुभवों को सार्वजनिक मंच पर साझा किया है। वहीं, फिटनेस आइकॉन मिलिंद सोमन की पत्नी और मॉडल अंकिता कोंवर ने भी इस बात का खुलासा किया कि वे डिप्रेशन में हैं। (Ankita Konwar On Depression In Hindi)

अंकिता कोंवर जो अपनी एक्टिव लाइफस्टाइल के लिए मशहूर हैं अक्सर अपने पति और ‘फिटनेस फ्रीक’ मिलिंद सोमन के साथ दौड़ लगाते, स्वीमिंग करते और योग करते नज़र आती हैं उनके डिप्रेशन में होने  की बात सुन कई लोगों ने हैरानगी भी जतायी है। लेकिन, अंकिता कोंवर का मामला भी इसी बात का संकेत है कि डिप्रेशन जैसी समस्याएं अमीर और गरीब, फिजिकली फिट और कम हेल्दी, सभी वर्गों के लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है।

Also Read

More News

मन में चल रहा है तूफान-सा

अंकिता ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर एक पोस्ट लिखी जिसके साथ एक तस्वीर भी है। इस तस्वीर में अंकिता कुछ खाते हुए दिखायी दे रही हैं लेकिन, पोस्ट के अनुसार, उन्हें अच्छा भोजन खाकर भी कोई खुशी नहीं मिल रही है। अंकिता ने लिखा कि, भले ही इस फोटो में सब अच्छा दिख रहा हो लेकिन वह मन में अच्छा नहीं महसूस कर रही। अंकिता के लिखा, 'कुछ समय पहले ही ली गयी इस तस्वीर में भले ही मेरे चेहरे पर मुस्कुराहट दिख रही है लेकिन तब मेरे मन में तूफान-सी स्थिति थी। कुछ दिनों तक कुछ भी अच्छा नहीं चला। सचमुच, हर वो चीज जो ठीक दिखती है वह ठीक होती नहीं'

उन्होनें आगे लिखा, ' ऐसा भी समय आता है जब सारी चीजें बेकार प्रतीत होने लगती हैं । पर, अब मैं डिप्रेशन से बाहर निकलरही हूं, मेरे मन का डर अब खत्म हो चला है, लम्बे समय तक डिप्रेशन में रहने के बाद और उससे बाहर निकलने की कोशिश करने के बाद भी मुझे अब इसमें वक़्त लगता है। पर मैं अब पहले से अधिक स्ट्रॉन्ग हो चुकी हूं और अंधेरे के बीच रोशनी की किरण भी देख रही हूं। मैं इसे खुद पर हावी नहीं होने दूंगी, मैं इससे लड़ती हूं, रोती हूं और अब अपने विचारों को भी रोकने की कोशिश नहीं करते।।'

मेहनत करना है ज़रूरी

अपनी इस पोस्ट में अंकिता कोंवर ने यह भी लिखा कि, ‘मैंने हालात और विचारों को कंट्रोल करने की कोशिश नहीं की हालांकि, ऐसा करने के लिए बहुत प्रैक्टिस की आवश्यकता पड़ती है। मैं समझ चुकी हूं कि जिंदा रहने के लिए बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ती है । अपने जीवन के अनुभवों के आधार पर मैं आगे का सफर तय करती रहूंगी। मैं जानती हूं  यह मुश्किल होगा पर मैं मजबूती से आगे बढ़ती रहूंगी।’ (Ankita Konwar On Depression)

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on