Sign In
  • हिंदी

Hair Care Tip: जब लगाएं बालों में मेंहदी, तो ध्यान में रखें शहनाज़ हुसैन की ये हेयर केयर टिप्स

आयुर्वेद के अनुसार मेहंदी में बेहतरीन एंटी-सैप्टिक गुण होते हैं।

हाथों को सजाने के अलावा मेंहदी या हिना बालों को भी रंगत देती है। अगर आप अपने बालों में पहली बार मेंहदी लगा रहे हैं तो कुछ खास बातों का ध्यान चाहिए। ब्यूटी एक्सपर्ट और हर्बल क्वीन शहनाज़ हुसैन कुछ ऐसी ही टिप्स शेयर कर रहीं हैं।

Written by Sadhna Tiwari |Updated : November 14, 2019 12:46 PM IST

सफेद बालों (Hair Care Tips) को छुपाने के लिए मेंहदी (Henna for Hair) का इस्तेमाल भी बहुत से लोग करते हैं। हाथों को सजाने के अलावा मेंहदी या हिना बालों को भी रंगत देती है। अगर आप अपने बालों में पहली बार मेंहदी लगा रहे हैं तो कुछ खास बातों का ध्यान चाहिए। ब्यूटी एक्सपर्ट और हर्बल क्वीन शहनाज़ हुसैन कुछ ऐसी ही टिप्स शेयर कर रहीं हैं। (Hair Care Tips)

आयुर्वेदिक औषधि है मेंहदी (Henna for Hair):

मेहंदी (Henna for Hair) के अनेक औषधीय लाभ है। आयुर्वेद के अनुसार मेहंदी में बेहतरीन एंटी-सैप्टिक गुण होते हैं। इसे त्वचा की एलर्जी तथा गर्मियों में त्वचा में होने वाले रैशेज़, फोड़े-फुंसी, गर्मी और घमौरियों के इलाज के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

आर्युवेद में मेहंदी को जलन, त्वचा कटने-फटने,  खरोंच, घाव तथा इंफ्लेमेशन के उपचार में भी प्रयोग किया जाता है।  बालों में मेहंदी लगाने से बालों की रूसी, सिर में फोड़े-फुंसी, खुजली आदि बीमारियों से राहत मिलती है।

Also Read

More News

शहनाज़ हुसैन मेंहदी को एक प्राकृतिक क्लींजर मानती हैं, जो कि कई बीमारियों का उपचार करती है।

जब लगाएं मेंहदी बालों में तो ध्यान में ये बातें (Hair Care Tips) :

यह ध्यान रखें कि मेहंदी के नैचुरल पत्तों (Henna for Hair) का ही बालों पर  उपयोग करें।  त्योहारों के दौरान मेहंदी की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए बाजार में केमिकल्स युक्त मेहंदी के पैकेट बेचे जाते हैं। इससे त्वचा  में जलन, सूजन, खुजली  आदि हो सकते हैं।

कभी भी सस्ती मेहंदी के चक्कर में न फंसे, क्योंकि सिंथेटिक मेहंदी के  लम्बे समय तक इस्तेमाल से कैंसर जैसे भयानक रोग का ख़तरा हो सकता है।  अच्छी क़्वालिटी के ब्रांडेड मेहंदी का ही उपयोग करें। (Henna for Hair)

सिन्थेटिक  मेहंदी में पैराफेनीलिनडेमिन (पीपीडी )  और डायमीन  नामक  जहरीले  रसायन  होते हैं  जोकि  त्वचा सम्बन्धित अनेक बिमारियों का कारण बनते हैं।

यह भी पढ़ें- ना पीएं ज़्यादा ग्रीन टी हो सकता है लीवर इंफेक्शन, और भी हैं Green Tea के साइड इफेक्ट्स।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on